गुजरात के मुख्यमंत्री ने पत्नी के साथ किया संगम स्नान, अक्षयवट व हनुमान मंदिर की दर्शन

प्रयागराज ब्यूरो। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में कांग्रेस पार्टी जान बूझकर मामला लटकाना चाहती है। इसके पीछे उनका राजनीतिक उद्देश्य छिपा है। जबकि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्पष्ट कहा है कि हम कानून का आदर करते हैं। इस मामले को जल्द से जल्द सुलझाया जाएगा और अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनेगा। यह बात शुक्रवार को प्रयागराज आए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने सोमनाथ मंदिर की तरह राम मंदिर निर्माण के सवाल का जवाब देते हुए मीडिया से कही।

उन्होंने कहा कि राम मंदिर के प्रति हिन्दुओं की श्रद्धा है और हमें विश्वास है कि कोर्ट के माध्यम से मंदिर का मामला जल्द से जल्द सुलझाया जाएगा। प्रयागराज की धरती पर चल रहे कुम्भ महापर्व को लेकर गुजराज के मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बेहतर व्यवस्था की है। कुम्भ हिन्दू संस्कृति का बड़ा महत्वपूर्ण कार्यक्रम है। जिसमें पूरे देश की एकता, अखण्डता का प्रतीक होता है। हम सब एक हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का मंत्र है कि सबका साथ, सबका विकास, उसको बढ़ाने में प्रयागराज में चल रहा कुम्भ महत्वपूर्ण है।

विजय रूपाणी ने गंगा के महत्व को लेकर कहा कि गंगा जी है तो जल है। प्रयागराज में त्रिवेणी संगम है और इसलिए यहां कुम्भ है। गंगा की रक्षा करना, उनकी सफाई रखना हमारी जिम्मेदारी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस कुम्भ के कारण देश में एक नई चेतना का हम अनुभव कर रहे हैं और आने वाले दिनों में यही चेतना देश को आगे बढ़ाएगी।

प्रधानमंत्री के चलते जनता को हो रहे अक्षयवट के दर्शन

गुजरात के मुख्यमंत्री ने बताया कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के चलते 450 सालों से कैद अक्षयवट के दर्शन को लाभ जनता को प्राप्त हो रहा है। प्रधानमंत्री ने जनता के लिए जो यह कदम उठाया है वह एतिहासिक है। यह हमारे लिए श्रद्धा का विषय है।

सपत्नीक संगम स्नान कर अक्षयवट व हनुमान मंदिर के किये दर्शन

तीर्थराज प्रयाग के दौरे पर आए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कुम्भ महापर्व के दौरान पत्नी के साथ संगम में आस्था की डुबकी लगाई। संगम में पूजा अर्चना के बाद वह पत्नी के साथ अक्षयवट पहुंचे। जहां उन्होंने 450 साल बाद खोले गये अक्षयवट के दर्शन किया। कुम्भनगरी आए गुजरात के मुख्यमंत्री प्राचीन हनुमान मंदिर भी गये और भगवान की पूजा व अभिषेक किया। इस दौरान उन्होंने मंदिर के महंत नरेन्द्र गिरि से भी भेंट कर बातचीत की।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper