गुजरात में भाजपा-कांग्रेस को डर कहीं उनकी राजनीतिक बिसात न बिखेर दें दूसरे दल

अहमदाबाद: गुजरात में चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहे हैं, वैसे-वैसे राज्य की सत्ता के दो प्रमुख दावेदार भाजपा और कांग्रेस इस बात से चिंतित हो उठी हैं कि कोई दूसरा दल या शख्शियत उनकी राजनीतिक बिसात न बिखेर दे। कुछ पार्टियां और कुछ चेहरे भाजपा और कांग्रेस, दोनों के लिए चुनाव में खेल बिगाड़ने वाले साबित हो सकते हैं। बिहार में एनडीए के साथ गठबंधन करके सरकार बनाने वाली जेडीयू गुजरात चुनाव में अपने उम्मीदवार उतारने को तैयार है।

जनता दल (यूनाइटेड) ने भी चुनाव में सक्रियता से हिस्सा लेने की योजना बनाई है। कांग्रेस से अलग होकर शंकर सिंह वाघेला कांग्रेंस कार्यकताओं में अपने प्रभाव की वजह से कांग्रेस के लिए समस्याएं पैदा कर सकते हैं। इसके अलावा भाजपा और कांग्रेस के बागी नेता, इन पार्टियों के साथ मिलकर भाजपा और कांग्रेस के लिए सिरदर्द बन सकते हैं। आम आदमी पार्टी (आप) भी इन दोनों का खेल बिगाड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

हालांकि पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने रविवार को स्पष्ट रूप से भाजपा को हराने की मांग की। पार्टियां ही नहीं गुजरात चुनाव में कुछ चेहरे ऐसे भी हैं, जो अकेले किसी सीट पर हार जीत का निर्णय कर सकते हैं। इन्हीं चेहरों में से एक जिग्नेश मेवाणी भी हैं, जो गुजरात की बडगाम सीट से निर्दलीय रुप से चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस के बड़े नेता हिमांशु पटेल भी टिकट नहीं मिलने के कारण कांग्रेस ने नाराज हैं, वह भी दोनों दलों के लिए तकलीफ पैदा कर सकते हैं।

कांग्रेस दिनेश शर्मा भी पार्टी से नाराज होकर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनावों में उतर सकते हैं। आदिवासी क्षेत्र से छोटू वसावा ने भारतीय ट्राइबल पार्टी का गठन किया है। जो कांग्रेस को सहयोग कर रही है। गुजरात चुनावों में लड़ाई भले कांग्रेस और भाजपा के बीच ही दिखाई देती है पर ये निर्दलीय चेहरे और जेडीयू, राष्ट्रवादी कांग्रेस, आप आदि पार्टियां उनके लिए मुश्किल पैदा कर सकती हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper