---- 300x250_1 ----
--- 300x250_2 -----

गुड़ के साथ इस चीज का सेवन करने से इम्यूनिटी हो जाती है बेहद मजबूत

लखनऊ: जब इम्यूनिटी बढ़ाने की बात आती है, तो पोषक तत्वों से भरे भोजन करने और रंग बिरंगी गोलियों वाले सप्लीमेंट लेने की बात दिमाग में आती है। हर दिन खाने वाले खाद्य पदार्थ स्वाभाविक रूप से पोषक तत्वों से भरे रहते है और उनमें ऐसे गुण होते है जो हर तरह की बीमारियो को ठीक करने में मदद कर सकते है। बस आपको सही समय पर सही भोजन करने कि आवश्यकता है।

गुड़ के साथ आम तौर पर भीगा हुआ कच्चा चना खाने की सलाह दी जाती है। लेकिन एक शोध में आया है की गुड़ के साथ काले भुने हुए चने भोजन का एक ऐसा उत्तम संयोजन है जो आपके कई सारे पुरानी बीमारियो को खत्म करने और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकता है, जो वर्तमान समय में बहुत महत्वपूर्ण है।

गुड़ और भूना चना खाने के स्वास्थ्य फायदे:

यह खाद्य पदार्थ लंबे समय से भारतीय आहार का एक हिस्सा रहा है और कई तरह से स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है।

1. इम्यूनीटी बूस्ट करना: गुड़ और भूना हुआ चना दोनों ही जिंक से भरे होते है। जिंक एक ऐसा खनिज है जो शरीर में 300 एंजाइम को सक्रिय करने और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए जाना जाता है।

2. श्वसन संबंधी समस्याएं: सांस संबंधित समस्यायों से पीड़ित लोगों के लिए यह खाद्य बहुत अच्छा माना जाता है। ऐसे लोगो को रात में सोने से पहले दूध के साथ कुछ भूना चना और गुड़ लेना चाहिए। इससे सांस नली का संकुचन होना कम होने लगता है और आराम मिलता है।

3. फेफड़ों को साफ करता है: यह आपके फेफड़ों को साफ करने में मदद करता है और प्रदूषण संबंधी बीमारियो को शरीर से दूर रखता है।

4. हृदय संबंधी समस्याएं: गुड़ और भुने चने में मौजूद पोटैशियम सामग्री हृदय प्रणाली संबंधी जटिलताओं जैसे, स्ट्रोक और दिल के दौरे को रोकने में मदद करता है।

गुड़ और भूना चना का सेवन कब और कैसे करें?

आप इस भोजन को सुबह या शाम को नाश्ते के रूप में ले सकते है। गुड़ और चना खाने के दो तरीके है। या तो चना को रात भर भिगो कर रख दें और सुबह उन्हें गुड़ के साथ खाएं, या फिर चना को तवे पर भून के फिर गुड़ के साथ खाएं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper