गुप्ता ने जुमा को बर्वाद किया तो मोदी ने पीएनबी को जमींदोज

अखिलेश अखिल

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: दक्षिण अफ्रीका की सत्ता बदल गयी। जैकब जुमा पैदल हो गए। कल तक राष्ट्रपति थे। भारत का दक्षिण अफ्रिका से गहरा लगाव रहा है। गांधी जी के प्रति दक्षिण अफ्रिका को गहरा लगाव रहा है। लेकिन अजय गुप्ता जैसे व्यापारी ने दक्षिण अफ्रिका को कहीं का नहीं छोड़ा। खासकर जैकब जुमा की राजनीती को तो उसने ख़त्म ही कर दिया। अब जब वहाँ सत्ता बदल गयी है ,व्यापारी अजय गुप्ता पर शिकंजा कसना शुरू हो गया है। उसको भगोड़ा घोषित कर पुलिस ने तलाश शुरू कर दी है, लेकिन सूत्रों के मुताबिक अजय गुप्ता ने नौ दिन पहले ही देश छोड़ दिया था।

दक्षिण अफ्रीका में जैकब जुमा के राष्ट्रपति पद छोड़ने का मुख्य कारण बने भारतीय कारोबारी अजय गुप्ता को शायद समय बदलने का आभास हो गया था। इसीलिए वह छह फरवरी को ही दक्षिण अफ्रीका से निकल लिए थे। वह दस दिन पहले दुबई जाने वाली फ्लाइट से दक्षिण अफ्रीका से रवाना हुए थे। जोहानिसबर्ग एयरपोर्ट प्रशासन ने यह जानकारी दी है। वैसे गुप्ता को पिछले हफ्ते देहरादून में देखा गया था। उत्तराखंड पुलिस ने इसकी पुष्टि की है। लेकिन इस समय अजय गुप्ता लापता हैं।

दक्षिण अफ्रीका में गुरुवार को जैकब जुमा के इस्तीफे और सिरिल रामाफोसा के राष्ट्रपति बनते ही साधन संपन्न गुप्ता बंधुओं के सितारे गर्दिश में चले गए। गुप्ता बंधुओं की दुबई सहित दुनिया के कई शहरों में संपत्तियां हैं। मूल रूप से उत्तर प्रदेश के सहारनपुर निवासी अजय और उनके भाइयों पर अफ्रीकी सरकार की नीतियां बदलवाकर लाभ अर्जित करने का आरोप है। इधर भारत में व्यापारी नीरव मोदी से सत्ता सरकार की सिहरन बढ़ी हुयी है। इस ठग व्यापारी ने अपने रसूक का लाभ उठाकर देशी पीएनबी बैंक को बर्वाद कर दिया।

भारत की राजनीति को मोदी ने जीवंत कर रखा है। नीरव मोदी का पूरा परिवार किसी ठग गिरोह से कम नहीं। भाई ,पत्नी सब एक से बढ़कर एक गिरहकट सावित हुए। ठगी का यह खेल हालांकि वह पहले से करते आ रहा था लेकिन सबसे बड़ी लूट का खेल उसने पिछले दो सालों में खेला। भारतीय राजनीती की तासीर यह है कि घोटाला को लेकर पक्ष और विपक्ष एक दूसरे पर हमले करते हैं और स्वयं को निर्दोष बताते हैं। इसी का लाभ लुटेरा वर्ग उठाता है। नीरव मोदी भी यही खेल कर रहा है।

सबसे बड़ी बात है कि नीरव मोदी तो पंजाब नेशनल बैंक से 11,400 करोड़ रुपए का घोटाला कर परिवार समेत देश से फरार हो गया है, लेकिन अब लगता है कि कई बड़ी हस्तियां भी लपेटे में आने वाली हैं। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, देश के बड़े राजनेता और फिल्मी हस्तियां, नीरव के स्टोर्स से कैश में खरीदी करते थे। अब इनके नाम भी उजागर हो सकते हैं। खबर है कि आयकर विभाग के पास पूरी सूची है। यह खुलासा पिछले साल नीरव के ठिकानों पर मारे गए छापे के दौरान हुआ था। पता चला था कि कई बड़े लोग नीरव के स्टोर्स पर आते थे और कैश में मनाचाही खरीदी करते थे। इनमें कुछ हॉलीवुड सितारे भी शामिल हैं। सूत्रों के हवाले से यहां तक बताया गया है कि इनमें एक सांसद भी शामिल हैं जो पेशे से वकील है।

मालूम हो, नोटबंदी के बाद कई सेक्टर्स में बड़े पैमाने पर कैश खरीदी हुई थी। आयकर विभाग ने छापे भी मारे थे। उसी क्रम में नीरव मोदी के स्टोर्स पर भी कार्रवाई हुई थी और यह लिस्ट मिली थी। इस बीच, पंजाब नेशनल बैंक में 11,400 करोड़ के महाघोटाला में घिरी मोदी सरकार ने आरोपियों की घेराबंदी और तेज कर दी है। विदेश मंत्रालय ने मुख्य आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के पासपोर्ट सस्पेंड कर दिए। उनका पता लगाने व गिरफ्तार करने के लिए सीबीआई ने इंटरपोल से मदद मांगी है। विदेश मंत्रालय ने मोदी व चौकसी के पासपोर्ट चार हफ्ते के लिए सस्पेंड किए हैं।

उनसे एक हफ्ते में जवाब मांगा गया है, यदि उन्होंने जवाब नहीं दिया तो उक्त पासपोर्ट रद्द कर दिए जाएंगे। ईडी ने दोनों को एक हफ्ते में पेश होने का समन भी जारी कर दिए हैं। पता चला है कि नीरव मोदी के पास 150 से ज्यादा शेल कंपनियां थी जिसका काम सिर्फ ब्लैक एंड वाइट का धंधा करना था। आगे की कार्रवाई पर नजर रहेगी लेकिन गुप्ता और मोदी ने बहुत कुछ बर्वाद किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper