गैंगरेप के तीन मामलों में पुलिस अधीक्षकों को भेजा नोटिस, मानवाधिकार आयोग ने गैंगरेप पर मांगी रिपोर्ट

भोपाल: गैंगरेप के मामलों में प्रदेश पुलिस का उदासीन रवैया लगातार सामने आ रहा है।मानवाधिकार आयोग ने छिंदवाड़ा के परासिया थाना क्षेत्र में महिला के साथ हुए गैंगरेप पर भी समय से नहीं हुई कार्रवाई को लेकर एसपी से रिपोर्ट मांगी है। इस तरह दमोह में दुष्कर्म पीड़िता किशोरी के मामले में भी एसपी से रिपोर्ट मांगी है।

वहीं छतरपुर में पुलिस ने रेप पीड़िता को ही दो दिन तक थाने में बिठाए रखा। इस मामले में छतरपुर एसपी से भी रिपोर्ट मांगी है। इन तीनों मामलों के अलावा अशोक नगर में एक नवविवाहिता ने फांसी लगा ली थी, पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और सिर्फ फोटो लेकर आ गई। इसकी भी रिपोर्ट तलब की गई है। इस तरह के मामले लगातार सामने आ रहे हैं।

सूत्रों की माने तो औबेदुल्लागंज में रेल्वे स्टेशन के पास हुए गैंगरेप के आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। इस मामले में जीआरपी की कुछ टीमें रायसेन जिले में गई है। उधर एसपी रायसेन ने औबेदुल्लागंज थाने में एफआईआर दर्ज नहीं करने को लेकर एसडीओपी को जांच करने के निर्देश दिए हैं। जांच रिपोर्ट आते ही यहां के पुलिसकर्मियों पर गाज गिर सकती है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर चल रहे प्रदेश भर में महिला सुरक्षा जागरुकता अभियान की समीक्षा अगले सोमवार को सीएम फिर खुद कर सकते हैं। पहले चरण का यह अभियान 11 से 25 नवंबर तक चलना था।

सीहोर, पन्ना जिलों के पुलिस अधीक्षकों ने अब तक की अपनी रिपोर्ट पीएचक्यू को भेज दी है। पुलिस मुख्यालय ने हर जिले से रिपोर्ट बुलाना शुरू कर दिया है। हालांकि अभी अभियान जारी है, लेकिन जिलों में इतने दिनों में जागरुकता को लेकर जो काम किया गया है। उसकी रिपोर्ट आना शुरू हो गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper