गोंडा में स्टेट बैंक में कैश की किल्लत

गोंडा: उत्तर प्रदेश के गोंडा के इटियाथोक बाजार में स्थित एसबीआई की मुख्य शाखा में इन दिनों भुगतान की काफी दिक्कत चल रही है, जिस वजह बैंक के तमाम उपभोक्ताओं में आक्रोश व्याप्त है। अनेक लोग प्रतिदिन बैंक के आस-पास घूमते रहते हैं बावजूद उसके उन्हें मांग के अनुरूप रकम बैंक से नहीं मिल पाती है। ऐसे में लोगों के शादी विवाह जैसे जरूरी कार्यो सहित शिक्षा, दवा, कृषि और अनेक घरेलू कार्य पूरी तरह बाधित हो रहे हैं। बाजार के अन्य बैंको सहित इस बैंक में भी इन दिनों नकदी की भारी किल्लत चल रही है।

लोग पैसों के लिए बैंक के चक्कर काटने को मजबूर हैं और पैसों के चलते उनके जरूरी कार्य भी बाधित हो रहे हैं। क्षेत्र के लोगों ने बताया कि अपना ही धन बैंक से निकालने के लिए उन्हें कड़ी धूप में भारी मशक्कत करनी पड़ रही है। बावजूद उसके भी उन्हें मांग के हिसाब से पैसा बैंक द्वारा नहीं दिया जा रहा है। क्षेत्र के लोगों के घरों पर शादी विवाह जैसे जरूरी आयोजन होने वाले हैं, जहां पर उनको पैसों की भारी आवश्यकता है। ऐसे में बैंक द्वारा धन न दिए जाने की वजह से उन्हें काफी दिक्कत हो रही है।

क्षेत्र के अनेक लोगों ने कहा कि शादी विवाह का मौसम चल रहा है। साथ में लोगों को कृषि संबंधी कार्य भी निपटाने हैं। इसके अलावा तमाम लोग बीमार हैं। किसी को दवा लेना है किसी को खाद और बीज लेना है। ऐसे में लोगों को पैसों की सख्त जरूरत है। लोगो कहा कि उनकी मांग के अनुरूप यह बैंक पैसा नहीं दे पा रहा है, जिस वजह लोगों को काफी समस्या पेश आ रही है।

भारतीय स्टेट बैंक के इटियाथोक शाखा में नकदी की कमी के कारण लोगों के लड़को व लडकियों की शादी विवाह बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है। दौदापुर गांव के हरीष तिवारी ने बताया कि गांव में गरीब परिवार के लडकियों की शादी में मदद करनी है। इसके लिए पैसो की सख्त जरूरत है किन्तु इस बैंक में नकदी ही नहीं मिल रहा है, बैंक मैनेजर कहते हैं कि ऊपर से नहीं मिल रहा है तो हम कहां से बांट दे। कहा की हम भी चाहते हैं कि बैंक से किसी को पैसे के लिए वापस न जाना पडे और लोग हंगामा न करे। क्षेत्र के शिव नारायण, राम बहोर ने भी नकदी न मिलने की शिकायत की।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper