गोरखपुर की एक झुग्गी दे रही लॉक्डाउन पालन की मिसाल

जब पीएम नरेंद्र मोदी ने तालाबंदी का आह्वान किया तो उन्होंने एक पोस्टर फ्लैश किया जिसमें कोरोना पर एक संदेश लिखा था। UP CM योगी आदित्यनाथ के गढ़ में रहने वाले गरीब लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं, लॉकडाउन को चालू रखने के लिए एक संदेश दिया गया है।

गोरखपुर के बटीहटा की झुग्गी के लोगों ने सभी मार्गों पर अवरोध खड़ा कर दिया है, ताकि कोई बाहरी व्यक्ति अंदर न आ सके और कोई बाहर न निकल सके। बस्ती में सफाईकर्मियों की दैनिक सफाई और छिड़काव भी किया जा रहा है।

इस झुग्गी में लगभग 300 लोग रहते हैं। ये सभी दैनिक आधार पर काम करते हैं। कुछ पहिए, खोमचा या अन्य काम से अपना जीवन यापन कर रहे हैं। क्षेत्र को महामारी से बचाने के लिए 100% लॉकडाउन का पालन किया जा रहा है।

सभी के लिए एक सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई है। भोजन की व्यवस्था की जा रही है। राशन के लिए सूची प्रशासन को दे दी गई है। कुछ बच्चे बार-बार तालाबंदी में भी सड़क पर जा रहे थे। नतीजतन एक नाकाबंदी उन पर लिखे संदेशों के साथ डाल दी गई थी।

इस बीच बस्ती में रहने वाले लोगों की मदद के लिए व्हाट्सएप ग्रूप बनाया गया है, जिसके माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है। इसके अलावा, दीवारों पर पोस्टर चिपकाकर लोगों का अपहरण किया जा रहा है।

लॉकडाउन उल्लंघन के बार-बार आने वाले मामलों ने भारत में तेजी से एक उतार-चढ़ाव पैदा किया । यहां तक कि यूपी सरकार ने भी इस पर ध्यान दिया और सख्त आदेश दिए । अगर कुछ जगहों पर पढ़े-लिखे लोग नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं, तो ऐसे गरीब हैं जो वास्तव में यह दिखा रहे हैं कि कैसे खुद को सुरक्षित रखा जाए और दूसरों को भी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper