ग्रेफिटी दा टशन

लखनऊ: इन दिनों प्लेन टी-शर्ट की जगह ग्रेफिटी से सजे टी-शर्ट यंगस्तिान की पसंद में शुमार हो रहे हैं। अगर अभी तक आपने अपनी वार्डरोब में इन्हें शामिल नहीं किया है, तो आप भी हो जाएं इनके साथ। ग्रेफिटी से कैसे करें दूसरों को अट्रैक्ट, बता रही हैं मधु निगम

ग्रेफिटी, यानी टी-शर्ट पर लिखा कोई मैसेज या कोट, जो फनी होने के साथ-साथ अट्रैक्टिव भी हो। यह मैसेज किसी स्लोगन के रूप में भी हो सकता है या फिर आपके जज्बात के रूप में भी। हालांकि ग्रेफिटी को अपनाने का यह मतलब नहीं है कि आप पूरी तरह से अपनी वॉर्डरोब ही बदल दीजिए। जैसे अगर आप ट्रेडिशनल हैं और आपने पूरी तरह से मॉडर्न परिधान पहनने शुरू कर दिए, तो देखने वालों की नजर में आपका लुक अटक भी सकता है। उन्हें एक झटका-सा भी महसूस हो सकता है। आपको किसी को चौंकाना नहीं है, बस उनका ध्यान खींचना है।

इसके लिए ग्रेफिटी एक बेहतर विकल्प है। वैसे भी लोग हमेशा से टी-शर्ट के जरिए खुद के हाव-भाव प्रदर्शित करना चाहते हैं। युवाओं में यह प्रवृत्ति और भी ज्यादा पाई जाती है। इस प्रकार की टी-शर्ट मार्केट में रेडीमेड तो मिलती ही है, खुद भी मनपसंद ग्रेफिटी से टी-शर्ट को सजाया जा सकता है। फैशन डिजाइनर भी मानते हैं कि टी-शर्ट पर ग्रेफिटी सजाना बहुत आसान है। इसके लिए एक प्लेन टी-शर्ट और फेविक्रिल पेंट की जरूरत होती है। फेविक्रिल के फैब्रिक पेंट, फ्रोंलिका एक्रिलिक कलर, पिगमेंट कलर विद सिंथेटिक बाइंडर पेंट्स की सहायता से आप बिना किसी समस्या कोई भी स्लोगन से लेकर मनचाहा डिजाइन तक उकेर सकते हैं। आप जो भी स्लोगन या कोट्स लिखना चाहते हैं, उसे फ्रोलिका पेंट्स से सीधे बिना ब्रश के टी-शर्ट पर पेन की तरह इस्तेमाल करें।

टी-शर्ट पर ड्राइंग : अगर आप ड्राइंग करना जानते हैं, तो टी-शर्ट को स्ट्रेच करके उस पर मनचाही आकृति बनाकर पेंट कर सकते हैं। ड्राइंग की जगह आप टी-शर्ट पर जियोमेट्रिकल फिगर्स जैसे स्क्वायर, ट्राएंगल, सर्कल भी बना सकते हैं। इसे और निखारने के लिए इसमें अलग-अलग प्रकार के इमोजी बनाए जा सकते हैं। इसके अलावा ग्रेफिटी बनाने के लिए मनचाहे डिजाइन को ट्रेस करके रंगों से निखारा जा सकता है।
ढेर सारे हैं फायदे : जब आप ऐसा करते हैं, तो लोग आपकी तारीफ करेंगे। आपको नजरअंदाज करना किसी के लिए भी मुमकिन नहीं होगा। एक्सपर्ट भी मानते हैं कि एक जैसे लुक से हम खुद अपने आप से ही बोर हो जाते हैं, जबकि लुक बदलने से हमारे अंदर एनर्जी बनी रहती है। वर्क प्लेस से लेकर स्कूल-कॉलेज तक में आपकी पर्सनॉलिटी के आधार पर आपके बारे में कई महत्वपूर्ण फैसले लिए जाते हैं।

बरतें कुछ सावधानियां

कुछ भी डिजाइन करने से पहले यह तय कर लें कि आप को पेंट क्या और कहां करना है। मसलन फ्रंट या बैक साइड पर। उसी के अनुसार कलर और पेंटिंग स्टाइल का चयन करें।
– टी-शर्ट के जिस हिस्से में आपको लिखना या ड्रॉ करना है, उस हिस्से को छोड़कर ऊपर और नीचे के हिस्से पर प्लास्टिक शीट बिछा दें, ताकि रंग पूरी टी-शर्ट पर न फैले।
– टी-शर्ट की दोनों लेयर के बीच में वुडन बोर्ड लगा दें, ताकि पेंटिंग करते समय कलर पीछे की तरफ न लगे।
– आप ड्राइंग में माहिर नहीं हैं, तो सफेद चॉक की सहायता से कोई भी डिजाइन या कोटेशन का खाका खींच कर उस पर कलर कर सकते हैं।
– जिस रंग की टी-शर्ट हो उसी रंग के चॉक का भी प्रयोग करें, ताकि बाद में वह टी-शर्ट पर नजर नहीं आए।
– पेंटिंग करते समय रंगों का सेलेक्शन हमेशा सोच-समझ कर ही करें, क्योंकि कलर कॉम्बिनेशन ही आपके हुनर में चार-चांद लगाएगा। इसके लिए टी-शर्ट का कलर और पेंट हमेशा कन्ट्रास्ट ही लें। सफेद रंग की टी-शर्ट पर चारकोल, ब्लू डीप पर्पल और येलो कलर खूब जमेंगे।
– अगर आप पेंटिंग करते समय ब्रश का इस्तेमाल करते हैं, तो मोटी डिजाइन के लिए पांच नंबर का ब्रश और पतली डिजाइन के लिए दो नंबर का ब्रश चयन करें।
– पेंट करने के बाद कम से कम टी-शर्ट को 36 घंटे के लिए हवा में सूखने दें। फिर उल्टा कर पेंटिंग वाले हिस्से को प्रेस कर दें, ताकि रंग पक्का हो जाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper