घर का नल टपकता है तो बह जाएगा आपका पैसा

नई दिल्ली: अच्छा कमाने के बाद भी आपको पैसों की कमी से गुजरना पड़ रहा है। कई कोशिशों के बाद भी पैसे नहीं बच पा रहे हैं,या आपका बजट बिगड़ जाता है। आपको भी इन समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है तो अपनाएं वास्तु के ये टिप्स। वास्तु के इन टिप्स से आप अपने छोटे-छोटे आर्थिक नुकसान का बचाव कर सकते हैं।

अगर आपके बाथरुम या घर के किसी नल से पानी टपकटा है तो उसे अनदेखा ना करें। नल से पानी का टपकते रहना वास्तुशास्त्र में आर्थिक नुकसान का बड़ा कारण माना गया है। वास्तु के नियम के अनुसार नल से पानी का टपकते रहना धीरे-धीरे धन के खर्च होने का संकेत होता है। इसलिए नल में खराबी आ जाने पर तुरंत बदल देना चाहिए।

आप जिस चीज में पैसे रखते हैं उसको सही दिशा में रखना बहुत जरुरी है। जिस चीज में भी आप अपना पैसा रखते हैं, उसे कभी भी दक्षिण की दीवार से सटाकर इस प्रकार न रखें कि उसका मुंह उत्तर दिशा की तरफ रहे। चाहे वो तिजोरी हो या फिर अलमारी। पूर्व की दिशा की ओर आलमारी का मुंह होने पर भी धन में वृद्धि होती है, लेकिन उत्तर दिशा उत्तम मानी गई है। अपने बेडरूम के प्रवेश द्वार के सामने वाली दीवार के बाएं कोने पर धातु की कोई चीज लटकाकर रखें। वास्तुशास्त्र के अनुसार यह स्थान भाग्य और संपत्ति का क्षेत्र होता है। अगर इस दिशा में दीवार में दरारें हैं तो उसकी मरम्मत करवा दें।

इस दिशा का कटा होना भी आर्थिक नुकसान का कारण होता है। बहुत से लोग इस बात का ध्यान नहीं रखते हैं कि उनके घर का पानी किस दिशा में निकल रहा है। वास्तुशास्‍त्र के अनुसार जल की निकासी कई चीजों को प्रभावित करती है। जिनके घर में जल की निकासी दक्षिण अथवा पश्चिम दिशा में होती है, उन्हें आर्थिक समस्याओं के साथ अन्य कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। उत्तर दिशा एवं पूर्व दिशा में जल की निकासी आर्थिक दृष्टि से शुभ माना गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper