घर की इस दिशा में खड़े होकर खाना बनाना होता हैं शुभ, होती हैं बरकत ही बरकत

नई दिल्ली: भारत में वास्तु शास्त्र की बहुत मान्यता हैं. यहाँ जब भी कोई व्यक्ति अपना घर बनाता हैं तो वास्तु का ध्यान जरूर रखता हैं. ऐसे कहा जाता हैं कि घर का अच्छा वास्तु आपके यहाँ पॉजिटिव एनर्जी लाता हैं वहीँ खराब वास्तु के चलते नेगेटिव एनर्जी आती हैं. ऐसे में आपको हमेशा कोशिश यही करनी चाहिए कि आपके घर सकारात्मक उर्जा अधिक रहे. क्योंकि नकारात्मक उर्जा से घर में अशांति और दरिद्रता फैलती हैं.

जब भी घर के वास्तु की बात होती हैं तो किचन का नाम पहले आता हैं. किचन पुरे घर में सबसे अहम कमरा होता हैं. चुकी यहाँ पुरे घर का खाना बनता हैं इसलिए परिवार के सभी सदस्यों से इसका कनेक्शन रहता हैं. ऐसे में किचन के अन्दर वास्तु के नियमो का पालन करना जरूरी हो जाता हैं. आप सभी रोजाना किचन में खाना तो जरूर बनाते हैं लेकिन क्या आप ने कभी सोचा हैं कि वास्तु के हिसाब से किस दिशा में खड़ा होकर खाना बनाना सबसे अधिक लाभदायक रहता हैं.

आप को शायद ये बात थोड़ी अजीब लगे लेकिन वास्तु की माने तो ये बात भी काफी मायने रखती हैं कि आप घर का खाना किस दिशा में पका रहे हैं. अशुभ या गलत दिशा में खाना बनाने से घर में दरिद्रता आती हैं. वहीँ सही और शुभ दिशा में खाना पकाने से घर में बरकत ही बरकत रहती हैं. तो चलिए जानते हैं कि इन चरों दिशाओं में खाना पकाने का क्या लाभ और हानि हैं.

वास्तु के अनुसार खाना बनाते समय यदि आपका मुंह पूर्व दिशा में होता हैं तो ये सबसे शुभ माना जाता हैं. पूर्व दिशा सूर्य देव की दिशा मानी जाती हैं. इस दिशा में उनके प्रकाश का तेज़ सबसे पहले फैलता हैं. ऐसे में इस दिशा में सबसे अधिक सकारात्मक उर्जा भी रहती हैं. यही कारण हैं कि पूर्व दिशा में बनाया गया खाना भी पॉजिटिव एनर्जी से भरा होता हैं. इस तरह जब घर के सभी लोग इस खाने को खाते हैं उनमे भी एक पॉजिटिव एनर्जी आ जाती हैं. नतीजन घर में लड़ाई झगड़ा कम होता हैं और सभी अपने काम पर कुछ जायदा ही फोकस रहते हैं जिससे घर में धन की अवाक् भी बढ़ जाती हैं.

पूर्व दिशा के अलावा उत्तर दिशा में मुंह कर के खाना बनाना भी शुभ रहता हैं. ये दुसरे नंबर की सबसे अच्छी दिशा मानी जाती हैं. इस दिशा में खाना बनाने से घर में सुख शान्ति बनी रहती हैं. आप लोग भूलकर भी दक्षिण दिशा में मुंह कर के खाना ना बनाए. वास्तु के अनुसार इस दिशा में सबसे अधिक नेगेटिव एनर्जी रहती हैं. ऐसे में जब इस दिशा में खाना पकाया जाता हैं तो घर के लोगो की सोच भी नकारात्मक हो जाती हैं. इस तरह घर में लड़ाई झगड़े के चांस भी बढ़ जाते हैं और दरिद्रता भी प्रवेश करती हैं.

अब सबसे लास्ट में आती हैं पश्चिम दिशा. इस दिशा में खाना बनाने का ना तो कोई लाभ हैं और ना ही कोई हानि हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper