घर में इन छोटी बातों का रखें ध्यान, नहीं होगी धन की कमी, मिलेगा संपत्ति लाभ

नई दिल्ली: वास्तु शास्त्र के अनुसार उत्तर दिशा को धन के देवता कुबेर की दिशा माना जाता है. इस दिशा को साफ रखने से धन लाभ होता है. वहीं, घर के पूर्व-उत्तर कोने में अन्य देवी-देवताओं की शक्ति होती है. इसे ईशान कोण भी कहा जाता है. घर का ये हिस्सा सकारात्मक ऊर्जा से भरा होता है. इन दो दिशाओं में अगर कोई दोष न हो तो घर में पैसा आता है. इसके साथ ही संपत्ति लाभ भी मिलता है.

जबकि घर की इन दोनों दिशाओं में वास्तु दोष होने से आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. घर के वास्तु दोष दूर होने से कुबेर और लक्ष्मी जी प्रसन्न होते हैं. जिससे समृद्धि बढ़ती है. आइए वास्तु शास्त्र के अनुसार जानते हैं कि घर में पैसा और संपत्ति बढ़ाने के लिए किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

घर की उत्तर दिशा की दिवारों का रंग नीला होना चाहिए.
पानी का स्थान उत्तर दिशा में होना चाहिए.
पानी की टंकी में शंख, चांदी का सिक्का या चांदी का कछुआ रखें.
सजावटी सामानों में एक्वेरियम को घर की उत्तर दिशा में रखना चाहिए.
कुबेर की दिशा होने के कारण उत्तर में तिजोरी रखनी चाहिए.
उत्तर दिशा में नीले रंग का पिरामिड रखने से संपत्ति लाभ होता है.
उत्तर दिशा में कांच का बड़ा बाउल रखें और उसमें चांदी के सिक्के डालें. इससे धन लाभ मिलेगा.
पूर्व-उत्तर कोने में गणेश और लक्ष्मीजी की मूर्ति रखकर पूजा करें.
घर के पूर्व-उत्तर कोने में सफाई का विशेष ध्यान दें. बिल्कुल भी गंदगी न रखें.
उत्तर दिशा में आंवले का पेड़ या तुलसी का पौधा लगाएं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper