चाइल्ड रेपिस्ट को मिली 146 बेंत की सजा, भीषण दर्द से बीच में ही हो गया बेहोश !

लखनऊ: इंडोनेशिया में रहने वाले एक व्यक्ति ने 19 साल की लड़की के साथ रेप किया । रेप के आरोप में उसे 146 बेंत की सजा सुनाई गई। सजा के दौरान उसकी हालत इतनी बिगड़ गई थी, की वह सजा सुनकर ही बेहोश हो गया। इस व्यक्ति का नाम रोनी था।

रोनी ने सजा देने वाले धार्मिक पुलिस को सजा देने से रोकने की बहुत कोशिश की उसे कुछ देर के लिए मेडिकल उपचार की व्यवस्था भी कराई गई, लेकिन इसके बाद फिर उसे बेंत की सजा मिलने लगी, जिससे वह बेहोश होकर गिर पड़ा।

इस व्यक्ति को इस साल के शुरुआत में ही एक लड़की के साथ यौन शोषण के आरोप गिरफ्तार कर लिया गया था।हम आपको यह बता दें कि इंडोनेशिया के आचें में इस्लामिक सीरिया कानून लागू किया गया है।

यह क्षेत्र इंडोनेशिया का केवल एक मात्र क्षेत्र है, जिसमें इस्लामिक शरिया कानून लागू किया गया है। क्षेत्र में 5000000 लोग रहते हैं जिसमें 98% लोग मुस्लिम है। 2001 मैं इंडोनेशिया की सरकार ने इस क्षेत्र को स्वायत्तता दी थी, जिसके बाद यहां सीरिया कानून लागू कर दिया गया।

रोनी अपनी बेंत की सजा सुनकर जैसे ही बेहोश हुआ,तो उसको ट्रीटमेंट के लिए अस्पताल ले जाया गया। इस रोनी को 169 वेंत की सजा मिलने वाली थी, लेकिन इसकी हालात देखकर, इसे इस सजा के लिए अनफिट करार कर दिया गया और उसकी सजा घटाकर 146 बेंत कर दी गई।

एक डॉक्टर ने मेल के द्वारा बात करते हुए, कहा कि जब इसे 52 बेंत पड़े थे तभी ही उसके कमर में एक फफोले हो गए थे, अगर उसे ऐसे ही लगातार और मार पड़ती रहती, तो उसके ब्लड वेसल्स फट सकते थे और उसकी हालत बेहद गंभीर हो सकते थे । बेहतर होगा कि उसकी सजा टाल दिया जाए और जब वह ठीक हो जाए, तो उसे फिर सजा दिया जाए।

यहां पहले भी इस सजा के लिए आलोचना किया गया है। यहां कोई भी अपराध हो बड़ा या छोटा बेंत की ही सजा सुनाई जाती है। कोरोनाकल में भी यहां किसी भी अपराध के लिए बेंत की ही सजा सुनाई जाती थी। कुछ ही दिन पहले एक शख्स को जुए खेलने के जुर्म में 5 बेंत की सजा दिया गया था।

Source:- Bharatjai

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper