चार धाम रोड प्रोजेक्ट पर कुछ विशेषज्ञों ने गहरी आपत्ति जताई, कहा हिमालयन ब्लंडर

नई दिल्ली: चार धाम रोड प्रोजेक्ट पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त की गई समिति के दो विशेषज्ञ सदस्यों ने इस सड़क को चौड़ा करने पर गंभीर सवाल उठाए हैं। 900 किलोमीटर लंबी इस सड़क को 10 मीटर चौड़ा किया जा रहा है। विशेषज्ञों ने इसे ‘हिमालयन ब्लंडर’ कहा है। इस ‘अल्पमत’ राय को मुख्य रिपोर्ट में शामिल किया गया है। इस पैनल की अध्यक्षता पर्यावरणविद रवि चोपड़ा कर रहे हैं। पैनल ने पर्यावरण, जंगल और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (MoEFCC) को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है।

चोपड़ा ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि यह आपत्ति हेमंत ध्यानी और नवीन जुयाल ने दर्ज करवाई थी। उन्होंने सड़क और हाईवे मंत्रालय के उस फैसले पर ऐतराज जताया था जिसमें पूरे प्रोजेक्ट को 53 छोटे प्रोजेक्ट में बांटा गया था ताकि इनवारयमेंट इम्पैक्ट असेसमेंट (EIA) से बचा जा सके, जबकि सभी पहाड़ियां बहुत करीब-करीब हैं। हर स्ट्रेच 100 किलोमीटर से कम है। MoEFCC के नियमों के अनुसार 100 किलोमीटर से लंबे प्रोजेक्ट के लिए EIA स्टडी जरूरी है।

21 सदस्यीय इस समूह में पांच लोगों, जिनमें चोपड़ा भी शामिल हैं, ने अपनी आपत्ति दर्ज करवाई थी। ये लोग सड़क की चौड़ाई 10 मीटर बढ़ाए जाने के खिलाफ हैं। हालांकि ज्यादातर सदस्य सड़क की चौड़ाई बढ़ाए जाने के पक्ष में हैं। बहुसंख्यक समूह ने भी अपनी अंतिम रिपोर्ट मंत्रालय को दे दी है। इसमें नुकसान को कम करने के रास्ते भी सुझाए गए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper