चिदंबरम बोले, एक इंच जमीन पर कब्जा नहीं का दावा झूठा, 1.5 KM अंदर तक मौजूद हैं चीनी

कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का दावा है कि भारत की एक इंच जमीन पर भी किसी का कब्जा नहीं है महज बयानबाजी है. चिदंबरम ने कहा कि भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने भी आकलन किया है कि चीन की सेना अभी भी वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पार भारत की ओर 1.5 किलोमीटर अंदर घुसी हुई है.

1.5 KM अंदर तक मौजूद है सेना
पूर्व गृह मंत्री ने मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारत सरकार दावा करती रही कि हमारी जमीन पर किसी ने अतिक्रमण नहीं किया है, लेकिन ये बयानबाजी महज कोरी गप साबित हुई. चिदंबरम ने ट्वीट किया, “भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने आकलन किया है कि चीनी सेना अभी भी LAC के पार भारतीय सीमा में 1.5 किलोमीटर अंदर तक घुसी हुई है, मई में चीनी सेना LAC को पार कर हमारी सीमा में पांच किलोमीटर अंदर आ गई थी.सिर्फ बयानबाजी करती है मोदी सरकार

पी चिदंबरम ने कहा कि सरकार का दावा है कि भारत की सीमा में किसी ने अतिक्रमण नहीं किया है, महज बयानबाजी थी. रक्षा मंत्री ने भी बयान दिया था कि भारत की एक इंच जमीन को भी कोई छू नहीं सकता है, ये तो और भी बयानबाजी थी. कांग्रेस नेता ने कहा कि जब केंद्र सरकार सच्चाई स्वीकार नहीं करती है कि तबतक पूर्व की यथास्थिति को हासिल करना मुश्किल होगा.

फिंगर 4 पर चीनी सैनिकों की मौजूदगी बरकरार
बता दें कि 15 जून को गलवान में भारत और चीनी सेना के बीच हिंसक झड़प के बाद दोनों देशों के बीच लंबी बातचीत हुई थी. इसके बाद दोनों सेना पीछे जाने पर सहमत हुई थीं. हालांकि रक्षा एजेंसियों के मुताबिक गलवान वैली में फिंगर 4 इलाके में चीनी सैनिक अभी भी मौजूद हैं. फिंगर-4 पर भारत का दावा है. भारत फिंगर 8 तक पेट्रोलिंग करता रहा है, लेकिन चीनी सैनिक मई में फिंगर 4 तक आ गए थे.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper