चीन को लगा बड़ा झटका, बांग्लादेश ने रद्द की ये महत्वपूर्ण परियोजना

नई दिल्ली: बुधवार को चीन को बांग्लादेश की तरफ से एक बड़ा ही करार झटका लगा है। इस झटके से चीन शायद ही वह उभर पाए। बांग्लादेश ने चीन की एक बड़ी कंपनी के साथ एक सड़क निर्माण परियोजना को रद्द कर देने का फैसला किया है। जो कि ढाका सिलहट राजमार्ग का निर्माण करने में जुटी हुई थी। लेकिन एक गंभीर आरोप के बाद बांग्लदेश ने चीन के हाथों से यह परियोजना छीन ली।

अधिकारियों को रिश्वत देने के आरोप में कंपनी को बांग्लदेश की तरफ से ब्लैकलिस्ट भी कर दिया गया है, ताकि वह भविष्य में किसी परियोजना में शामिल न हो सकें। यह बात अमेरिका की एक रिर्पोट में सामने आई है। जिसमें सरकारी अधिकारियों को रिश्वत देने के लिए बांग्लादेश सरकार द्वारा चाइना हार्बर इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड को ब्लैकलिस्ट कर दिया गया है। जिसके चलते उस आगे बांग्लादेश की किसी भी निर्माण परियोजना में भाग लेने की इजाजत नहीं होगी। यह बात रिर्पोट में बांग्लादेश के वित्तमंत्री के हवाले से कही गई है। उन्होंने बांग्लादेशी मीडिया को दिए गए एक इंटरव्यू में इस बात का जिक्र भी किया।

यह कंपनी पहले भी कई बड़ी परियोजनाओं को संभाल चुकी है। इसमें पाकिस्तानी का ग्वादर और श्रीलंका का हनबटोटा पोर्ट शामिल है। बांग्लादेशी वित्तमंत्री की माने तो कंपनी ने बांग्लादेश हाईवे ट्रांसपोर्ट एंड ब्रिजेज डिपार्टमेंट के नए नियुक्त हुए डायरेक्टर को रिश्वत देने की कोशिश की थी,जिसका साफ मकसद परियोजना के फंड से संबंधित था। रिश्वत की तौर पर डायरेक्टर को करीब पांच मिलियन टका देने का प्रस्ताव सामने रखा गया था। रिश्वत की इस घटना का पता लगने के बाद वित्त मंत्री को परियोजना को रद्द करना पड़ा और कंपनी को पूरी तरह से ब्लैकलिस्ट कर दिया है।

सामने आई रिपोर्ट के अनुसार निवेश की शर्तों को लेकर ही पिछले कुछ वक्त से चीन और बांग्लादेश के बीच टकरावा भर माहौल चल रहा है। 2016 के अक्टूबर महीने में जब चीन के राष्ट्रपित शी जिनपिंग ने बांग्लादेश का दौरा किया था,तब उन्होंने 21.5 मिलियन डॉलर की 26 परियोजनाओं को उन्हें सौपा था। लेकिन समझौते के समय चीनी कंपनियों ने निवेश की राशि में बदलाव करने की कोशिश की जो की बांग्लादेश को पसंद नहीं आई।

जब बांग्लादेश ने चीनी सरकार से इस बात को लेकर नाराजगी जताई तो पर ध्यान देने की बजाए कोई निर्णायक कार्रवाई नहीं की गई।वहीं,बांग्लादेशी मीडिया के हवाले से रिपोर्ट में इस बात का जिक्र भी किया गया कि सीचीईसी नामक चीनी निर्माण कंपनी भी भ्रष्टाचार के मामले में लिप्त हो चुकी है।कंपनी ने बांग्लादेश के अधिकारियों को रिश्वत देने जैसे काम को करने की कोशिश की थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper