चुनाव को देखते हुए दिल्ली मेट्रो में छात्रों और बुजुर्गो को किराए में छूट

दिल्ली ब्यूरो: अब रेल और बस में ही छात्रों और बुजुर्गों को छूट दिए जाने की बातें सामने आती थी लेकिन अब केंद्र सरकार छूट की राजनीति मेट्रो में भी लागू करने जा रही है। केन्द्र सरकार ने दिल्ली में मेट्रो के किराये में इजाफे के बाद यात्रियों की संख्या में आ रही गिरावट को रोकने के लिए छात्रों और बुजुर्ग यात्रियों को किराये में छूट देने की पहल की है।

आवास एवं शहरी विकास राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि इस आशय का प्रस्ताव मेट्रो प्रबंधन को भेज दिया गया है। पुरी ने कहा, ‘हमने मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रमुख से वरिष्ठ नागरिकों और छात्रों को विशेष किराया छूट देने का रास्ता निकालने को कहा है, हम इसे जल्द करेंगे। लेकिन मैं साफ कर दूं कि यह सिर्फ लोगों को लुभाने के लिए पहल नहीं, बल्कि प्रक्रिया और कानून का पालन कर व्यवस्था को भी बेहतर रखते हुए की गयी एक सार्थक पहल है। ‘

मंत्री के इस बयान के बाद राजनीति शुरू भी हो गयी है। आम जनता ही कहने लगी है कि अब जब चुनाव नजदीक आ रहे हैं सरकार पुरानी सारी बातों को भूलकर राजनीतिक लाभ लेने का जुगाड़ कर रही है। मेट्रो किराए में छात्रों और बुजुर्गो को छूट दिए जाने की बात उसी से जुडी है।

गौरतलब है कि मेट्रो रेल के किराये में किसी भी प्रकार की छूट अब तक किसी भी वर्ग के लिए नहीं की गई है। इस पहल के अमल में आने पर यह किसी वर्ग विशेष को किराये में छूट देने का पहला मौका होगा। छात्रों और वरिष्ठ नागरिकों को किराये में छूट को कब तक लागू किए जाने संबंधी सवाल पर पुरी ने कहा कि इस सहूलियत के दुरुपयोग को रोकने के पुख्ता उपायों पर विचार किया जा रहा है। तकनीक की मदद से इस सुविधा के दुरुपयोग को रोकने की माकूल तैयारियां पूरी होने तक इंतजार करना होगा।

हालांकि उन्होंने इसे लागू करने की निर्धारित समय सीमा के बारे में कुछ नहीं बताया। साथ ही पुरी ने किराये में बढ़ोतरी को मेट्रो के मौजूदा विश्वस्तरीय प्रबंधन और यात्रियों की सुविधाओं का हवाला देते हुये जायज ठहराया। उन्होंने कहा कि नौ साल से किराये में बढ़ोतरी नहीं किये जाने से मेट्रो का वित्तीय बोझ इस हद तक बढ़ गया था कि इसे न केन्द्र सरकार रोक सकती थी और ना ही खुद दिल्ली सरकार। किराया बढ़ोतरी से यात्रियों की संख्या में गिरावट के सवाल पर उन्होंने स्पष्ट किया कि इसका संबंध किराये में बढ़ोतरी से कतई नहीं है.पुरी ने कहा कि साल के अंत में मेट्रो के यात्रियों की संख्या में गिरावट पहले से देखी जा रही है। अब पिछले दो महीनों में संख्या में लगातार इजाफा दर्ज किया जा रहा है। इससे साफ है कि इसका संबंध किराये में बढ़ोतरी से नहीं है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper