चूरू की एक गौशाला में अचानक 80 गायों की मौत से मचा हड़कंप, फूड पॉइजनिंग की आशंका

चूरू: राजस्थान के चूरू जिले में एक सरकारी सहायता प्राप्त मवेशी के आश्रय स्थल में लगभग 80 गायों की मौत हो गई। इस घटना से आसपास के इलाके में सनसनी फैल गई है। राज्य के पशुपालन विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि इन गायों की शुक्रवार की रात मौत हो गई है, कुछ अन्य बीमार हैं। पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. जगदीश ने कहा कि भोजन की विषाक्तता से जानवरों की मौत हो गई। उन्होंने कहा कि मेडिकल विभाग की टीमें सरदारशहर के बिलुबास रामपुरा गांव में स्थित गौ-आश्रय में मौजूद हैं।

वहीं, सरदारशहर के तहसीलदार कुतेंद्र कंवर ने कहा कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है। आखिर इतनी सारी गायों की मौत विषाक्त चारा खाने या बीमारी से हुई है, इसके बारे में पता लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद मौत के कारण स्पष्ट हो जाएंगे।

जानकारी के मुताबिक, यह घटना सरदारशहर में बिल्युबास रामपुरा की श्रीराम गोशाला की है। अधिकारियों के अनुसार शुक्रवार शाम के बाद से इस गोशाला में 80 गायों की मौत हो चुकी है जबकि कुछ अन्य भी बीमार हैं। पशुपालन एवं चिकित्सा विभाग की टीमें मौके पर मौजूद हैं। विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. जगदीश बरबड़ ने बताया कि गोशाला में शुक्रवार शाम को गायें अचानक बीमार होने लगी। रात में 80 गायों ने दम तोड़ दिया। कुछ और गायें भी बीमार हैं। हालांकि उनमें से ज्यादातर की हालत ठीक है। उन्होंने बताया कि संभवत: कुछ विषाक्त चीज खाने के कारण ऐसा हुआ। चारे के नमूने लेकर उसे जांच के लिए भेजा गया है।

बता दें कि बीते महीने पंचकुला के माता मनसा देवी मंदिर के पास गौशाला में फूड प्वाइजनिंग की वजह से 70 गायों की मौत हो गई थी। वहीं, 30 गायों का इलाज चल रहा था। बताया जा रहा था कि देर शाम बाहर से आए शख्स ने इन गायों को खाना डाला था। गायों की हालत खाना खाने के बाद खराब हो गई, जिसके बाद सुबह होते तक 70 गायों की मौत हो गई। वहीं, पूरे मामले की जांच के लिए कमेटी गठित की गई थी। इसके साथ ही भविष्य में गौशाला में चारा डालने से पहले उसकी जांच के निर्देश भी दिए गए थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper