चोरी करने के मकसद से घर में घुसे चोर को आई नींद, मालिक ने छड़ी मारकर जगाया

कर्नाटक: रातों रात चोरी कर के सुबह लोगों के होश उड़ने वाले चोरों के इस बार खुद ही होश उड़ हाय। ये खबर उतनी ही मजेदार है जितनी हिंदी फिलोम की कॉमेडी होती है। कर्नाटक के कन्नड़ से अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां एक घर में चोरी को अंजाम देने के मकसद से आये चोर ने कुछ ऐसा कर दिया की खेल उसपर ही भारी पक गया। ये मामला उप्पिनंगडी थाने की सीमा में उल्लास जंक्शन का है। एक घर में एक शराबी चोर घुस गया। चोर ने पहली मंजिल के घर की छत की टाइल को तोड़ा और अंदर घुस गया। घर में घुसने के बाद उसने घर लूटने के लिए चाबियां तलाशीं।

थोड़ी तलाशी के बाद उसे सभी चाबियां टीवी स्टैंड के पास रखी हुई मिल गईं। इस बीच वो थक गया और तेज नींद से झूमने लगा, जिसके बाद चोर हाथ में ही सभी चाबियां लिए घर के ही सोफे पर सो गया। वहीं घर के मलिक सुर्दशन ने कहना है कि जब वो सुबह उठा तो उसने देखा के उसकी छत की टाइल्स टूटे हुए हैं और एक अजनबी आदमी उनके सोफे पर खर्राटे भरकर सो रहा है।

जिसके बाद मालिक ने चोर को छड़ी से मारकर जगाया और पुलिस के हवाले कर दिया। रात को नशे की हालत में घर में तोड़-फोड़ करने वाले चोर की पहचान अनिल सहानी के रूप में की गई है। घर के मालिक का कहना है कि शायद ऐसा हो सकता है कि चोर पहले से नशे में धुत्त हो। बताया जा रहा है कि चोर बिहार के माजीपुर जिले का रहने वाला है। फिलहाल, पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और चोर से पूछताछ कर रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper