छाती और गले में जमे कफ से एक ही दिन में मिलेगा छुटकारा, इस घरेलू नुस्खे से ये काम होगा

नई दिल्ली: मौसम बदल रहा है और ऐसे में जुकाम, खांसी व कफ जैसी समस्याओं का होना आसान है। जी हां दरअसल आपको बताते चलें कि अगर किसी को ऐसी समस्या होती है तो इस दौरान लोगों को सांस लेने में तकलीफ और लगातार छींके भी आती है, ये सारी समस्याएं तभी होती हैं जब आपके सीने में कफ यानि की जिसे लोग बलगम भी कहते हैं जमा हो जाए। इस दौरान नाक बहना और बुखार आना भी सामान्य होता है। कफ जमने के बहुत सारे कारण हो सकते हैं, जैसे कि सर्दी-जुकाम, फ्लू, वायरल इन्फेक्शन, साइनस, अत्यधिक स्मोकिंग।

इस देसी उपाय को अपनाकर आप आसानी से कफ दूर कर सकते हैं वहीं आपको यकीन नहीं होगा की इसके प्रयोग से कफ एक ही दिन में दूर हो जा सकता है। इसके लिए आपको 2 कप पानी में 30 काली मिर्च पीसकर उबाल लेना होगा और फिर जब पानी एक चौथाई रह जाए तब इसे छानकर इसमें एक चम्मच शहद मिलाएं। अब इस मिश्रण का सुबह शाम सेवन करें।

ऐसा करने से आपकी खांसी और कफ दोनों से छुटकारा मिल सकता है। इसके अलावा आपको ये भी बता दें की लहसुन खाने से गले में जमा कफ बाहर निकल जाता है। इस देसी नुस्खे से टीवी के रोग में भी राहत मिलती है। छोटे बच्चे की छाती में जमा कफ निकालने के लिए गाय के घी को बच्चे की छाती पर रगड़े इस उपाय से जमा हुआ कफ बाहर निकल जाता है। लहसुन में सूजन दूर करने वाले तत्व मौजूद होते हैं और नींबू में सिट्रिक एसिड। इससे आपको बलगम की समस्या से फौरन निजात मिल जाएगी।

वहीं आपको बता दें की अगर आप चाहे तो कफ जैसी समस्या को दूर करने के लिए एक चम्मच शहद और दो चम्मच नींबू का रस गर्म पानी में मिलाकर भी पी सकते है और इससे आपको काफी राहत मिलेगा। जी हां आपको बताते चलें की इस उपाय से गला साफ होगा क्योंकि नींबू कफ को काटने का काम करता है और इसके अलावा शहद से गले को आराम मिलता है। कफ से पूरी तरह छुटकारा पाने के लिए इस मिक्चर को एक हफ्ते तक दिन में तीन बार जरूर लें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper