छात्रा ने दोस्तों के साथ पी शराब, डांट के डर से मां को सुनाई रेप की फर्जी कहानी

गाजियाबाद: ट्यूशन से लौट रही 12वीं की छात्रा के अपहरण और दुष्कर्म के मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने कोचिंग सेंटर संचालक को क्लीन चिट दी है। पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि छात्रा ने अपने फेसबुक फ्रेंड के साथ शराब पी थी। परिवार को शराब पीने की बात पता न चले इस कारण छात्रा ने दुष्कर्म की झूठी कहानी सुनाई। मेडिकल रिपोर्ट में भी दुष्कर्म की पुष्टि नहीं होने पर पुलिस अब केस को रदद करने की तैयारी कर रही है।

वहीं, पुलिस से क्लीनचिट मिलने के बाद थाने में मौजूद कोचिंग सेंटर संचालक सबके सामने रो पड़े। उन्होंने कहा कि टीचर्स डे पर पुलिस ने उन्हें बहुत बड़ा गिफ्ट दिया है, जिसे वह जिंदगी भर याद रखने वाले है। मामले की जानकारी देते हुए एसएचओ इंदिरापुरम सचिन मलिक ने बताया कि फेसबुक पर छात्रा की दोस्ती युवक से हुई थी। दोनों चैटिंग के बाद मिलने लगे। मंगलवार शाम छात्रा अपने दोस्त के साथ वसुंधरा के एक पार्क में बैठी थी। सीसीटीवी जांच में इसकी पुष्टि हुई। पता चला कि शाम 6 बजे के करीब दोनों ने शराब पी और पिज्जा खाया। शराब के नशे की वजह से छात्रा पार्क के पास सड़क पर गिर गई थी, जिसके कारण उसके कपड़े फट गए थे। छात्रा के ज्यादा नशे में होने की वजह से उसके दोस्त घर के बाहर तक छोड़कर चला गया था।

घरवालों से पता चला है कि छात्रा करीब एक घंटा देरी से घर पहुंची थी। परिवार की डांट से बचने और शराब पीने की जानकारी न हो, इसकारण छात्रा ने अपनी मां को दुष्कर्म की फर्जी कहानी सुनाई। एसएचओ सचिन मलिक ने बताया कि सीसीटीवी और मेडिकल जांच में दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है। इस कारण पुलिस मुकदमा खत्म करने की तैयारी कर रही है। जिस समय पुलिस छात्रा के फ्रेंड से थाने में पूछताछ कर रही थी,उस समय कोचिंग सेंटर संचालक भी वहीं मौजूद थे। जांच के बाद पुलिस ने कोचिंग सेंटर संचालक को छात्रा और परिवार के सामने क्लीनचिट दे दी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper