जंगे आजादी के शहीदों को कुछ इस तरह किया गया याद

गोरखपुर। इस्लामिया कॉलेज ऑफ कॉमर्स के प्रांगण में जंगे आजादी के शहीदों को याद किया गया है जिन्होंने मुल्क के लिए अपनी जान की कुर्बानी पेश की यही स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर सजी इस शाम में शहर और आसपास के कवियों और शायरों ने अपना कलाम पेश करके श्रोताओं को मंत्र मुग्द कर दिया सभी ने एक से बढ़कर एक अपना कलाम पेश किया जो कि देश भक्ति और राष्ट्र प्रेम से ओतप्रोत कर दिया।

मुशायरे की सदारत डॉ अज़ीज़ अहमद, एवं मुख्य अतिथि डॉक्टर अनामिका श्रीवास्तव, कार्यक्रम प्रमुख आकाशवाणी ने कहा कि शहीदों को याद करना उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि है। देश पर अपनी जान कुर्बान कर देश को आज़ादी दिलाई। शायर वसीम मजहर ने तिरंगे की शान में ‘नफरत के पुजारी को उभरने नहीं देंगे, हम देश किसी तरह बिखरने नहीं देंगे, हम सींचते रहते हैं अपने लहू से हम रंग अपने तिरंगे का उतरने नहीं देंगे’ शायर को पेश कर सभी में जोश भरा।

युवा शायर मिन्नतउल्लाह ने ‘दिया बनो तो पतिंगा का नसीब हो मुझको, नहाना चाहूं तो गंगा नसीब हो मुझको, मेरी आरजू है और तमन्ना तो बस यही है यूं मरूं कि तिरंगा नसीब हो मुझको’, सौम्या यादव ने ‘चलूंगी गिरूंगी इस पथ पर मैं कोशिश करूंग ये हर पल’, भावना द्विवेदी ने ‘शत-शत वन्दन अभिनन्दत करती उनका, मातृभूमि पर प्राण न्योछावर है जिनका, भारत मां के बेटो की क्या बात करूं सागर को घाट, पर्वत को कर दे तिनका’, शाकिल अली शाकिर ने ‘मिलजुल के यहां रहते हैं सब हिन्दू-मुस्लमान, हम इस मुल्क पर कुर्बान-हम इस मुल्क पर कुर्बान’, कमालुद्दीन कमाल ने ‘मेरे वतन की इसी से शान है दुनिया में, मेरे तिरंगे को कोई झुका नहीं सकता’ खुर्शीद आलम कुरैशी ‘ए पाक जरा सुन ले कानों को खोलकर, कश्मीर हमारा है हमारा ही रहेगा’ और रहबर नवाज ने ‘मजहब का नहीं है यह लोगों की अमानत है चल मुल्क को हम आईन दिखाते हैं’ जैसे कलामों से देश की शान से रू-ब-रू कराया।

इस दौरान इसलामिया कॉलेज ऑफ कॉमर्स के फाउंडर मैनेजर हाजी शरीफ अहमद ऐडवोकेट, मैनेजर शोएब अहमद, एस पी क्राइम अशोक कुमार, सहित शहर के मशहूर एव मारूफ लोग मौजूद रहे। मुशायरे का संचालन फर्रुख जमाल ने किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper