जग्गी वासुदेव की पेंटिंग 5 करोड़ रुपये में नीलाम, धनराशि बीट द वायरस को दान

कोयम्बटूर: ईशा फाउंडेशन के संस्थापक जग्गी वासुदेव की पेंटिंग ऑनलाइन ऑक्शन में 5 करोड़ रुपये में नीलाम हुई। महीना भर पहले पेंटिंग को ऑनलाइन ऑक्शन के लिए रखा गया था। सोमवार को नीलामी बंद कर दी गई। पेंटिंग के लिए अंतिम बोली 5.1 करोड़ रुपये की लगी। इस धनराशि को ईशा फाउंडेशन के आउटरीच कार्यक्रमों में लगाया जाएगा।

इससे पहले भी जग्गी वासुदेव की एक पेंटिंग 4 करोड़ रुपये में बिकी थी। उन्होंने यह धनराशि बीट द वायरस नाम की संस्था को दान कर दिया था। बताया गया कि इन सभी धनराशियों का इस्तेमाल कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में अग्रिम पंक्ति के योद्धाओं को जरूर सुरक्षा उपकरण मुहैया कराने, आइसोलेशन वॉर्ड्स के निर्माण और हजारों असहाय ग्रामीण इलाकों के लोगों के लिए भोजन पहुंचाने में किया जाएगा।

‘भैरव’ बैल की याद में बनाई गई पेंटिंग
बता दें कि सोमवार को नीलाम हुई जग्गी वासुदेव की पेंटिंग ईशा फाउंडेशन के मशहूर बैल भैरव की याद में बनाई गई है, जिसकी बीते अप्रैल में मौत हो गई थी। जग्गी वासुदेव ने पेंटिंग के बैकड्रॉप के लिए गाय के गोबर का इस्तेमाल किया था। इसके अलावा उन्होंने चारकोल, हल्दी और चूना पत्थर का इस्तेमाल पेंटिंग बनाने के लिए किया था। सद्गुरु ने ट्वीट कर पेंटिग के बिकने की पुष्टि की।

अपने ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘भैरव (बैल) ने अपना घर ढूंढ लिया है। हमारा प्यारा बैल जीवन और जीवन के बाहर होकर भी हमारी सेवा कर रहा है। दाता (क्रेता) की दया और उदारता हमारे वॉलंटियर्स को असहया ग्रामीण जनों की सेवा में सक्षम बनाने का काम करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper