जट की फरारी के बाद जम्मू क्षेत्र की जेलों में शिफ्ट किए 25 आतंकी

जम्मू: पाक आतंकी नवीद जट उर्फ अबू हंजुल्लाह के श्रीनगर के एक अस्पताल से फरार होने के बाद कश्मीर घाटी से कम से कम 25 आतंकियों को जम्मू क्षेत्र की जेलों में शिफ्ट किया गया है। इन आतंकियों में 16 पाकिस्तानी हैं। ज्ञात हो कि नवीद कुछ दिन पहले श्रीनगर के महाराजा हरि सिंह हॉस्पिटल से नाटकीय तरीके से भागने में सफल रहा था। जम्मू क्षेत्र की जेलों में शिफ्ट किए गए 25 आतंकियों में से 16 पाकिस्तानी हैं। आतंकियों को जम्मू शिफ्ट करने की वजह यह है कि जट के हाल ही में फरार होने के बाद उसके जैसे बाकी आतंकी आपस में मिलकर कोई साजिश न रच सकें।

इसके साथ ही, जेल या अस्पताल कर्मचारियों से हाथ मिलाने और बच निकलने के बाद हिंसक गतिविधियां बढ़ाने की आशंका को देखते हुए यह कदम उठाया गया है। एसएमएचएस अस्पताल से शूटआउट के बाद फरार होने वाले लश्कर-ए-तैयबा आतंकी नवीद जट के मामले में जांच कर रही एनआईए मामले के इस पहलू पर जांच कर रही है कि उसके जैसे खतरनाक आतंकी को न सिर्फ जेल बल्कि डॉक्टरों की ओर से भी मनमुताबिक परिस्थितियां कैसे मिल गईं। शूटआउट में दो पुलिसकर्मियों को जान भी गंवानी पड़ी थी। सूत्रों के मुताबिक एनआईए जेल डॉक्टर्स की भूमिका की जांच कर रही है क्योंकि जट को कोई बड़ी बीमारी नहीं थी। इसके बावजूद छोटे-छोटे अंतरालों पर उसे जांच के लिए एसएमएचएस भेजा गया।

एनआईए की जांच जेल डॉक्टरों और खासकर एक महिला चिकित्सा अधिकारी से पूछताछ पर टिकी है, जिसने आतंकी को अस्पताल रेफर किया था। जेल स्टाफ के अन्य लोग, जेल में उसके साथी और अस्पताल के स्टाफ को भी शक के घेरे में रखा गया है। फिलहाल, एनआईए गिरफ्तार किए गए पांच संदिग्धों से पूछताछ कर रही है। हालांकि पूरे घटनाक्रम के मास्टरमाइंट कहे जाने वाले हिलाल की तलाश अब भी जारी है। उसपर फरार होने की योजना बनाने और पुलिसकर्मियों को जान से मारने का आरोप है। गृह मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर सरकार से जट के फरार होने के मामले की विस्तृत जांच कराने और 15 दिनों में एक रिपोर्ट पेश करने को कहा है। इसके साथ ही राज्य प्रशासन से जम्मू-कश्मीर में जेलों का सुरक्षा स्तर सुधारने के लिए भी कहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper