जनता का सहयोग न मिलने से देश में बढ़ रहेे कोरोना वायरस के मामले: स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली: स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव लव अग्रवाल ने आज प्रेस कॉनफ्रेंस में बताया कि देशवासी अभी भी पूरी तरह से कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने में सरकार का सहयोग नहीं कर रहे हैं। उन्होंने आंकड़े पेश करते हुए बताया कि देश में कोरोना के 1430 मामले सामने आ चुके हैं जिनमें से 140 लोग ठीक होकर अपने घरों को जा चुके हैं। इस महामारी से निपटने के लिए सभी राज्यों के साथ केंद्र सरकार ने भी पूरी ताकत लगा दी है। निजामुद्दीन मरकज के मामले पर स्वास्थ्य मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने कहा- यह समय गलतियां खोजने का नहीं बल्कि कार्रवाई करने का है। हमारे लिए यह महत्वपूर्ण है कि हम जिन क्षेत्रों में कोई मामला पाते हैं, उसमें हमारी नियंत्रण प्रक्रिया के अनुसार कार्रवाई की जाए।

अग्रवाल के मुताबिक मौजूदा समय में देश में 1251 मामले कोरोना के सामने आए थे लेकिन बहुत लोगों ने कोरोना वायरस संक्रमण की बातें छुपाई जोकि बाद में सामने आनी शुरू हुईं। इस वजह से 227 नए मामले भी सामने आए हैं, साथ ही उन्होने यह भी बताया कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से 32 लोगों की मौत भी हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि कोरोना को लेकर समाज में फैली भ्रांतियों को दूर करने के लिए भी लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। कोरोना के खिलाफ हम सबको साथ लडऩा होगा. लोगों का समर्थन नहीं मिलने से मामले बढ़ रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper