जनता को लाॅलीपॉप देकर वोट लेना भाजपा सरकार की आदत में शुमार: मसूद

लखनऊ ब्यूरो। राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व शिक्षा मंत्री डाॅ. मसूद अहमद ने शनिवार को यहां कहा कि जनता को लाॅलीपॉप देकर वोट लेना भाजपा सरकार की आदत में शुमार हो गया है। इसलिए जब चुनाव आता है तो भाजपा कुचक्र रचने में पीछे नहीं रहती है।

डाॅ. मसूद अहमद ने कहा कि भाजपा सरकार कुचक्र करना बखूबी जानती है यही कारण है कि विगत तीन महीने से पेट्रोल और डीजल के दाम लगातार कम किये गये, क्योंकि पांच राज्यों में विधान सभा चुनाव होने थे। उन्होंने कहा कि पांचों राज्यों में भाजपा की केन्द्र सरकार का लाॅलीपॉप जनता को पसंद नहीं आया। इसलिए जनता जनार्दन ने भाजपा की सरकारों को तीन राज्यों में धूल चटा दिया है।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि वर्ष 2019 में लोकसभा का चुनाव होना है। इसलिए केंद्र सरकार चुनाव जीतने के लिए कोई न कोई कुचक्र जरूर रचेगी लेकिन इससे जनता को सतर्क रहना होगा।

उन्होंने कहा कि अब सूबे की योगी सरकार नए वर्ष में बिजली मूल्य की दर घटाने का शिगूफा छोड़ रही है जबकि अपना कार्यकाल शुरू होने से अब तक लगातार बिजली मूल्य में वृद्वि की है। जबकि राष्ट्रीय लोकदल ने लगातार एक माह तक गरीबों, मजदूरों और किसानों के बढ़े हुये बिजली मूल्य के विरूद्व आन्दोलन चलाया। फिर भी गूंगी बहरी योगी सरकार ने गरीबों और किसानों के प्रति किसी प्रकार की हमदर्दी नहीं जतायी और न ही बिजली के दाम कम किए।

डाॅ. मसूद अहमद ने कहा कि लोकसभा चुनाव को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सूबे की जनता को भ्रमित करके हमदर्दी लेने का प्रयास करेंगे लेकिन जनता की नजर में उनकी पोल खुल चुकी है। इसलिए सूबे के गरीबों, मजदूरों, कामगारों और किसानों ने अब यह निश्चय कर लिया है कि झूठे आश्वासन देकर वोट लेने वालों को बेनकाब किया जायेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper