जबरन वसूली की आरोपी पूर्व आईपीएस भारती घोष बीजेपी में शामिल

दिल्ली ब्यूरो: पूर्व पुलिस अधिकारी भर्ती घोष बीजेपी में शामिल हुई। कभी ममता बनर्जी की ख़ास रही भर्ती घोष पर अभी फिरौती का एक मामला भी चल रहा है। ख़बर के अनुसार, घोष जबरन वसूली और आपराधिक षड्यंत्र के मामले को लेकर आपराधिक जांच विभाग (सीआईडी) की जांच के दायरे में हैं, जबकि उनके पति राजू हिरासत में हैं। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और मुकुल रॉय की मौजूदगी में बीते सोमवार को भाजपा में शामिल होने वाली घोष ने कहा कि पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र ख़त्म हो चुका है। सूत्रों के अनुसार, भाजपा में शामिल होने के बाद भारती घोष आगामी लोकसभा चुनाव में मैदान में उतर सकती हैं।

जानकारी के मुताबिक़, पिछले साल महीने में सीआईडी ने घोष के घर छापा मारकर 2.5 करोड़ नकद बरामद किया था। जांच में सहयोग न करने पर जांच एजेंसी ने घोष को ‘मोस्ट वांटेड’ तक करार किया था। भारती घोष ने कहा कि उन्होंने अपनी संपत्ति का पूरा ब्योरा दिया था। जबकि सीआईडी ने बताया था कि बरामद किए गए 2.5 करोड़ रुपये के बारे में कहीं कोई जानकारी नहीं दी गई थी। सीआईडी ने कोर्ट के आदेश पर अवैध वसूली के एक मामले में भारती घोष के खिलाफ जांच शुरू की थी। इस जांच के दौरान ही सीआईडी को भारती घोष के घर से 300 करोड़ रुपये की ज़मीन खरीदने के दस्तावेज़ मिले थे। इसी सिलसिले में सीआईडी भारती घोष से पूछताछ करना चाहती थी, लेकिन जब उनका कोई पता नहीं लगा तो सीआईडी ने उन्हें मोस्टवांटेड घोषित कर दिया था।

खबर के अनुसार, सीआईडी ने पहले घोष के खिलाफ पश्चिम मिदनापुर की एक अदालत में आठ अन्य लोगों के साथ एक फ़रार के रूप में चिह्नित करते हुए आरोप-पत्र दायर किया था। घोष के अलावा, उनके पूर्व अंगरक्षक सुजीत मंडल को भी चार्जशीट में एक फ़रार के रूप में दिखाया गया था। उधर इंडियन एक्सप्रेस द्वारा हासिल की गई एक ऑडियो क्लिप में, घोष को यह कहते हुए सुना गया कि वह फ़रार नहीं हैं और जल्द ही लोगों का सामना करेंगी। उन्होंने कहा, ‘मेरा मामला अभी अदालत में लंबित है। सुप्रीम कोर्ट ने मुझे गिरफ्तार नहीं करने का आदेश दिया। इसलिए मैं फ़रार नहीं हूं। लोग मुझे एक फ़रार बताकर मेरी छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। ’

रिपोर्ट के अनुसार, सीआईडी ने पिछले साल फरवरी में चंदन माझी द्वारा दर्ज जबरन वसूली और आपराधिक साज़िश की शिकायत के आधार पर भारती घोष के ख़िलाफ़ मामला दर्ज़ किया था। सीआईडी ने अपने आरोप-पत्र में घोष के फ्लैटों पर छापे की एक श्रृंखला से भारी मात्रा में नकद और सोने के आभूषण बरामद करने का जिक्र किया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper