जब अधिकारी के पैरों में गिर पडे मंत्री जी…!

भोपाल: अफसर के चलताऊ जवाब से खिन्न् हुए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर भरी मीटिंग में उठे और अफसर के पैर छू लिए। तोमर शुक्रवार को ग्वालियर में अपनी विधानसभा के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक ले रहे थे। जब उन्होंने स्वर्ण रेखा नदी में बह रहे सीवर की सफाई और बदनापुरा में भूमिपूजन पर सवाल उठाए तो अधिकारियों के जवाब सुन वे परेशान हो गए और प्रोजेक्ट प्रभारी शिशिर श्रीवास्तव के पैर ही छू लिए। भरी बैठक में यह नजारा देख अधिकारी सन्न रह गए। मंत्री ने अपनी विधानसभा के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक बुलाई थी। इसमें मीडिया के प्रवेश पर रोक लगा दी। समीक्षा शुरू हुई तो उन्होंने स्वर्ण रेखा नदी के प्रोजेक्ट अधिकारी शिशिर श्रीवास्तव से पूछा कि बदनापुरा में सीवर लाइन का उन्होंने भूमिपूजन किया। छह माह बाद भी वहां काम चालू नहीं हो सका है।

श्रीवास्तव ने जल्द काम शुरू कराने की बात कही, इस पर मंत्री नाराज हुए। फिर उन्होंने पूछा कि स्वर्ण रेखा नदी में 6 माह से सीवर बह रहा है। पिछले माह 7 साल का रचित श्रीवास्तव नामक मासूम उसमें डूबकर मर गया। लेकिन आज तक सीवर बहना बंद नहीं हुआ। इस पर श्रीवास्तव ने जवाब दिया कि हर दिन 60 आदमी चोक सीवर लाइन की सफाई कर रहे हैं। यह सुनते ही मंत्री ने कहा कि अभी सभी 60 आदमियों को बुलाओ। यह सुन निगमायुक्त संदीप माकिन, शिशिर व विधानसभा के सीवर सेल प्रभारी आरके शुक्ला बगलें झांकने लगे। अचानक मंत्री कुर्सी से उठे और शिशिर के पैर छूते हुए कहा- आप जैसे लोगों के कारण ही हम लोग चुनाव हारते हैं।

मंत्री ने बैठक में ही किलागेट थाना प्रभारी और सीएसपी को बुलाया और स्वर्ण रेखा नदी में सीवर सफाई का कार्य कर रहे अमृत योजना के ठेकेदार पर एफआईआर के निर्देश दिए। बैठक खत्म होते ही ठेकेदार का एक रिश्तेदार बाल भवन पहुंचा और मंत्री को अपना परिचय दिया। इसके बाद घटनाक्रम बदल गया और एफआईआर का मामला निर्देश तक सीमित रह गया। बैठक में निगमायुक्त के अलावा अधीक्षण यंत्री जलप्रदाय विभाग आरएलएस मौर्य, डिप्टी कमिश्नर हसीन अख्तर, सीओ अजयपाल सिंह जादौन, क्षेत्राधिकारी संजीव झा, यशवंत मेकले, राजेन्द्र शर्मा, रामसेवक शाक्य, भवन अधिकारी पवन शर्मा व राकेश कश्यप भी मौजूद थे। इस बारे में खादय मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि बाल भवन में हुई समीक्षा बैठक के बारे में फिलहाल मैं कुछ नहीं कहूंगा, लेकिन मुझे बहत कुछ समझ चुका हूं। जल्द ही इसके परिणाम देखने को मिलेंगे। इस संबंध सीवर प्रोजेक्ट प्रभारी शिशिव श्रीवास्तव का कहना है कि स्वर्ण रेखा नदी की सफाई करा रहे हैं। बदनापुरा में सीवर लाइन का काम तरीके से ही कराया जाएगा। मंत्री जी ने जब मेरे पैर छुए तो मैं असहज हो गया और मैंने माफी भी मांगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper