जब बड़ी होंगी आशाएं तभी पूरे होंगे सपने

लखनऊ: लड़कियों के बारे में हम जब भी सोचते है तो क्यों छोटी- छोटी तादात में सोचते हैं,18 साल की उम्र में शादी क्यों हमारी बच्चियों के लिए गोल पोस्ट बन जाता है? इस पर हम सब को सोचने की जरूरत है। अब सपनों को छोटा करने और उम्मीदों को कम करने का वक्त चला गया अब समय है बड़ी सी आशा का, अनंत उम्मीदों का, जो हमने देखा है इन किशोरियों और किशोरों के लिए। हम चाहते हैं, वह भी बड़े सपने देखे और उनको पूरा करने के लिए काम करें यह कहना है ब्रेकथ्रू की सीईओ और कार्यकारी अध्यक्ष सोहिनी भट्टाचार्य का, वह बड़ी सी आशा-सपनों की कोई सीमा नहीं कार्यक्रम को संबोधित कर रहीं थी। कार्यक्रम का आयोजन महिला अधिकारों के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था ब्रेकथ्रू द्वारा किया गया था।

संत गाडगे जी महाराज प्रेक्षाग्रह में अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि हमारा आज हो या कल वह तभी बेहतर होगा जब हम किशोरियों और किशोरों को बेहतर शिक्षा स्वास्थ्य के साथ ही आगे बढ़ने के लिए समान अवसर देंगे। उन्होंने आगे कहा हमें उनको बड़े सपने देखने के लिए प्रेरित करना होगा और उनका साथ देना होगा, यकीन मानिए आप उनका भरोसा कीजिए कि वह आपका विश्वास नहीं तोड़ेंगे।

इस अवसर पर ब्रेकथ्रू की स्टेट हेड कृति प्रकाश ने कहा कि कई सालों से ब्रेकथ्रू किशोरियों और किशोरों के सर्वागीण विकास के लिए काम कर रहा है हम डेढ़ लाख किशोर-किशोरियों तक जहां सीधे पहुंचे हैं वही कुल चार लाख किशोर-किशोरियों को स्वास्थ्य,शिक्षा और उनके अधिकारों के मुद्दे पर उनको अपने साथ जोड़ा है उम्मीद करते हैं की यह किशोरियां और किशोर आगे चलकर एक बेहतर समाज बनाएंगे।

इस अवसर पर बदलाव की 12 कहानियों को भी स्टोरी टेलिंग के माध्यम से दर्शकों के सामने रखा गया जिसमें लखनऊ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के प्रमुख डॉ मुकुल श्रीवास्तव, अभिनेता संदीप यादव, एक एफएम चैनल के रेडियो जॉकी और प्रोग्रामिंग हेड प्रतीक, अभिनेत्री श्रेया, कॉपी राइटर प्रवीण शामिल थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper