जब रेखा ने जाया बच्चन के लिए कहा था, ‘मैं समझौता नहीं कर सकती’.

मुंबई: 80 के दशक में मीडिया को दिए ऐसे ही एक इंटरव्यू में रेखा ने जया बच्चन पर निशाना साधते हुए उन्हें ‘बेचारी औरत’ तक कह दिया था. रेखा के इस इंटरव्यू ने उस समय अच्छी खासी सुर्खियां बटोरी थीं, यहां तक कि इस इंटरव्यू के जवाब में जया ने भी पलटवार करते हुए एक इंटरव्यू दिया था और रेखा को खरी-खरी सुनाई थी.

रेखा और अमिताभ की अधूरी प्रेम कहानी और इससे जुड़े ढ़ेरों किस्से आज भी लोगों के बीच सुने और सुनाए जाते हैं. सन 1976 में आई फिल्म ‘दो अनजाने’ के सेट्स से शुरू हुई अमिताभ और रेखा की लव स्टोरी से जुड़ी ख़बरों और किस्सों को उस ज़माने में इंडस्ट्री में चटखारे लेकर सुनाया जाता था. उस समय के अख़बारों और फ़िल्मी मैगजींस में भी अमिताभ और रेखा से जुड़ी ख़बरों का बोलबाला रहता था.

बताया जाता है कि रेखा, उनके और अमिताभ के रिलेशन को लेकर मीडिया से खुलकर बात किया करती थीं. 80 के दशक में मीडिया को दिए ऐसे ही एक इंटरव्यू में रेखा ने जया बच्चन पर निशाना साधते हुए उन्हें ‘बेचारी औरत’ तक कह दिया था. रेखा के इस इंटरव्यू ने उस समय अच्छी खासी सुर्खियां बटोरी थीं, यहां तक कि इस इंटरव्यू के जवाब में जया ने भी पलटवार करते हुए एक इंटरव्यू दिया था और रेखा को खरी-खरी सुनाई थी.

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो अपने इस चर्चित इंटरव्यू में रेखा ने कहा था कि मैं तो दूसरी औरत हूं इसलिए मैं क्या बोलती हूं, इससे क्या फर्क पड़ता है? कोई अंदर की बात नहीं जानता, क्योंकि सामने वाली पार्टी बड़ी ही खूबसूरती से एक बेचारी बन जाती है, क्योंकि यही सही है, मैं तो बस फ्री हूं, क्योंकि दूसरा इंसान ऐसा नहीं कर सकता, उसे छोड़ नहीं सकता”.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रेखा ने इस इंटरव्यू में जया बच्चन पर इशारों-इशारों में भड़कते हुए कहा था कि ये एक बहुत अच्छी क्वालिटी है, कि अगर आप अपनी इच्छाओं को मारकर ऐसे इंसान के साथ रह रहे हैं जो किसी और से प्यार करता है और फिर भी एक ही छत के नीचे रह रहे हैं तो इस बात के लिए मैं उन्हें क्रेडिट देना चाहूंगी, क्योंकि मैं ये नहीं कर सकती, मैं समझौता नहीं कर सकती, वो रिश्ता ही कैसा जिसमें समझौता करना पड़े, गिव एंड टेक ठीक है, लेकिन समझौते से अच्छा है कि उस रिश्ते को ही खत्म कर दिया जाए”.

इस इंटरव्यू के बाद जवाब में जया ने भी एक इंटरव्यू देते हुए रेखा को आड़े हाथों लेते हुए कहा था, अगर आप गलत के लिए प्रतिक्रिया देते हैं तो सही के लिए भी देनी चाहिए. यहां सिर्फ दो ही बातें होती हैं अगर आप खुश हैं तो खुश है और अगर आप दुखी हैं तो सिर्फ दुखी हैं.

Source: ABP News

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper