जवानों का हौसला बढ़ाने 1962 में नेहरू LAC गए थे, PM मोदी ने भी यही किया: एनसीपी चीफ

नई दिल्ली: चीन के साथ लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर लगभग दो महीने तक तनातनी चली. दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने रहीं. गलवान घाटी में चीन के साथ हुई हिंसक झड़प में 20 जवान शहीद हो गए, जिसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव और बढ़ गया. हालात युद्ध जैसे बनने लगे. इन सबके बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लेह के अग्रिम मोर्चे नीमू पर जाकर सैनिकों को संबोधित किया और अस्पताल पहु्ंच कर गलवान की झड़प में घायल सैनिकों का हालचाल जाना था.

पीएम के दौरे को लेकर कांग्रेस ने तंज करते हुए नीमू को टूरिस्ट स्पॉट बताया था, लेकिन महाराष्ट्र की गठबंधन सरकार में उसकी सहयोगी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार की राय बिल्कुल जुदा है. पीएम मोदी के लेह दौरे को शरद पवार ने सैनिकों को प्रेरित करने वाला कदम बताया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार शरद पवार ने कहा है कि साल 1962 के युद्ध में चीन से हारने के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और रक्षा मंत्री यशवंतराव चव्हाण भी एलएसी पर गए थे.

पवार ने कहा कि तब नेहरू और चव्हाण ने सैनिकों को प्रेरित किया था. हमारे वर्तमान प्रधानमंत्री ने भी ऐसा ही किया है. उन्होंने कहा कि जब भी देश की ऐसी स्थिति होती है, तब देश के नेतृत्व को सैनिकों को प्रेरित करने के लिए इस तरह के कदम उठाने चाहिए. गौरतलब है कि पीएम मोदी के लेह दौरे पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा था कि दोनों ही पक्षों को ऐसा कोई कदम उठाने से बचना चाहिए, जिससे तनाव बढ़े.

चीन से तनातनी के बीच भी कांग्रेस सरकार पर लगातार हमलावर रही. कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने तो पीएम मोदी को ‘Surender Modi’ तक बता दिया था. तब भी शरद पवार ने कांग्रेस से अलग तेवर दिखाए थे. पवार ने साफ कहा था कि जब चीन जैसे पड़ोसी के साथ तनाव चल रहा हो, तब ऐसे मुद्दे पर राजनीति नहीं की जानी चाहिए.

बता दें कि एलएसी पर तनाव कम करने के लिए रविवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने चीनी विदेश मंत्री से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की थी. लगभग दो घंटे तक हुई इस वार्ता के बाद अगले ही दिन चीनी सेना एक से दो किलोमीटर तक पीछे हट गई थी. दोनों देशों की सहमति से अब तनाव कम करने के लिए लद्दाख में पेट्रोलिंग पर भी रोक लगा दी गई है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper