जश्न नारी शक्ति का

लखनऊ: महिलाओं के सशक्तीकरण और कल्याण के लिए अपनी प्रतिबद्धता को दोहराते हुए देश की अग्रणी डायरेक्ट सेलिंग एफएमसीजी कंपनियों में से एक 1 एमवे इंडिया ने अंतराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया। लिंग समानता और स्वस्थ जीवन के लिए कंपनी ने भारत में 550,000 से अधिक डायरेक्ट सेलर्स को वित्तीय आत्मनिर्भरता प्राप्त करने में सहायता प्रदान की है, जिनमें से 60ः महिलाएं हैं। ये आयोजन उत्तर भारत के विभिन्न शहरों में हुए, जिनमें लखनऊ, गुरुग्राम, दिल्ली, हल्द्वानी, चंडीगढ़, अमृतसर, देहरादून, लुधियाना और जयपुर शामिल हैं।

समान अवसरों के एजेंडे को आगे बढ़ाते हुए एमवे इंडिया ने वूमेन डायरेक्ट सेलर्स के लिए स्किलिंग वर्कशॉप का संचालन किया। सरकार की स्किल इंडिया पहल के साथ कदम मिलाकर एमवे इंडिया स्किलिंग इकोसिस्टम में योगदान देते हुए स्किलिंग वर्कशॉप्स में रणनीतिक निवेश करके अपने प्रयासों को मजबूती प्रदान कर रही है। इसके पीछे उद्देश्य मूल्य-आधारित निर्णय लेने और आत्मविश्वास के साथ भविष्य को गले लगाने के लिए महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाना है। सत्र के बाद महिलाओं के समग्र स्वास्थ्य में सुधार और उचित पोषण की आवश्यकता पर एक सारगर्भित चर्चा हुई। इस अवसर पर शहरों और उसके आसपास की वूमेन डायरेक्ट सेलर्स की भारी भागीदारी देखी गई।

आयोजनों पर टिप्पणी करते हुए एमवे इंडिया के सीनियर वाइस प्रेजिडेंट – नॉर्थ एंड साउथ रीजन गुरशरण चीमा ने कहा, “महिलाएं हमारे देश के सामाजिक-आर्थिक परिदृश्य को मजबूत करने में एक अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। हमारा मानना है कि सभी क्षेत्रों में महिलाओं के लिए समान अवसर खोलने के लिए कौशल प्रशिक्षण बहुत ही अहम है। तथ्य यह है कि लगभग 60 प्रतिशत एमवे डायरेक्ट सेलर्स महिलाएं हैं, जो महिला उद्यमिता को सशक्त बनाने की दिशा में हमारी प्रतिबद्धता और योगदान का जीता-जागता प्रमाण है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस परहमने विभिन्न श्रेणियों वाली एमवे के उत्पादों की व्यापक रेंज के साथ उनके समग्र कल्याण पर जोर देने के साथ उन्हें उनके व्यवसायों को सफलतापूर्वक चलाने में सक्षम बनाने के लिए महिला उद्यमिता और समग्र कल्याण का जश्न मनाया।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper