जहां कोरोना के 10% केस वहां लॉकडाउन जरूरी: AIIMS प्रमुख

नई दिल्ली: भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर बेकाबू हो चुकी है। हर दिन कोविड-19 के 3 लाख से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच एम्स प्रमुख डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि देश में कोरोना वायरस पर काबू करने के लिए दोतरफा वार करने की जरूरत है। डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि जिन इलाकों में कोविड पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत से ज्यादा है, वहां जल्द से जल्द संपूर्ण लॉकडाउन लगाने की जरूरत है। डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा, देश का हेल्थकेयर सिस्टम सरकार की विफलता की कीमत चुका रहा है।

डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा, “मेरे हिसाब से कोरोना वायरस पर हमें दोतरफा हमले की जरूरत है। पहला, स्वास्थ्य देखभाल के बुनियादी ढांचे में सुधार पर तत्काल काम करना है, चाहे अस्पताल के बेड्स, दवा या ऑक्सीजन की कमी हो। दूसरा- कोरोना मामलों की संख्या में कमी करनी होगी। हम इतनी बड़ी संख्या में हर दिन एक्टिन केस को जारी नहीं रख सकते हैं।” एक निजी चैनल से बातचीत में डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा, ”कोरोना पर काबू पाने के लिए हमने उन इलाकों पर ज्यादा फोकस करना होगा जहां कोविड पॉजिटिविटी रेट हाई है। जहां कोविड सक्रमण दर ज्यादा हैं उनको कंटेनमेंट जोन बनाना होगा।

10 फीसदी से ज्यादा कोविड मरीज हैं तो लॉकडाउन लगाने की जरूरत है, तब कोरोना का ट्रांसमिशन चेन कम होगा।” डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा, हेल्थ केयर सिस्टम कोरोना के बढ़ते केसों की कीमत चुका रहा है। लोगों की जिंदगी को बचाना जरूरी है। लेकिन हमें ट्रांसमिशन की श्रृंखला को तोड़ना होगा और कोरोना केसों को कम करना होगा। दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी को लेकर डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा, राष्ट्रीय राजधानी में जो ऑक्सीजन की कमी का सवाल है वह सच में निराश और हताश करने वाला है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper