जहां हैं वहीं रहे यूपी के लोग,सरकार रखेगी उनका ख्याल : योगी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विभिन्न राज्यों में कार्यरत श्रमिकों से लाॅक डाउन अवधि में अपनी आजीविका वाले स्थान पर बने रहने की अपील की है और कहा है कि सरकार उनकी दिक्कतों के समाधान के लिये संबधित राज्यों के संपर्क में बनी हुयी है। योगी ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है। इसके मद्देनजर लाॅक डाउन के दौरान श्रमिकों की यात्रा उनके तथा उनके परिवार समेत अन्य सम्बन्धियों तथा गृह जिले के लोगों की स्वास्थ्य सुरक्षा को जोखिम में डाल सकती है।

उन्होने अन्य राज्यों में निवासरत प्रदेश के श्रमिकों से अनुरोध किया है कि वे केन्द्र सरकार के निर्देशों का पालन करते हुए अपने निवास के वर्तमान राज्य में लाॅक डाउन को सफल बनाने के लिए स्थानीय प्रशासन का सहयोग करें। राज्य सरकार इसके लिए प्रतिबद्ध है कि विभिन्न प्रदेशों में रह रहे उत्तर प्रदेश के लोगों को किसी असुविधा का सामना न करना पड़े।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर उनके राज्यों में प्रदेश के निवासियों को सभी व्यवस्थाएं यथा स्थान उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि कहा कि विभिन्न प्रदेशों में रह रहे उत्तर प्रदेशवासियों की दिक्कतों का समाधान करने के लिए राज्य सरकार द्वारा वरिष्ठ प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों की नोडल अधिकारियों के रूप में तैनात किया गया है। यह नोडल अधिकारी सम्बन्धित प्रदेशों में निवास कर रहे उत्तर प्रदेशवासियों की भोजन, निवास जैसी आवश्यक जरूरतों से जुड़ी समस्याओं का स्थानीय राज्य सरकार व प्रशासन से संवाद कर समाधान कराएंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper