जातिवादी सरकारों ने प्रदेश के विकास को अवरूद्ध किया: योगी आदित्यनाथ

हाथरस: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को हाथरस में कहा कि जातिवादी और परिवारवादी सरकारों ने प्रदेश के विकास को अवरूद्ध करने का काम किया था। प्रदेश के नौजवानों, किसानों, व्यापारियों का यह कर्तव्य बनता है कि जो लोग विकास के बाधक रहे हैं ऐसे लोगों को फिर से मौका न दें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सपा बसपा की सरकारों ने प्रदेश को माफिया राज और गुण्डाराज दिया था। सत्ता के संरक्षण में अपराधी पनपे। जिसके कारण उद्योग बन्द होते गये। यहां रोजगार का भीषण संकट खड़ा हुआ। यहां के नौजवानों और उद्यमियों ने पलायन किया। पिछले 16 महीने के अन्दर उत्तर प्रदेश का माहौल बदला है। पांच लाख करोड़ का निवेश प्रदेश में होने जा रहा है। इससे तीन लाख युवाओं को सीधे रोजगार से जोड़ा जायेगा।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विकास के पैमाने पर सबसे पिछड़ा माना जाने वाला उत्तर प्रदेश आने वाले समय में सबसे आगे खड़ा होगा। ‘वन डिस्टिक-वन प्रोडक्ट’ को सरकार बढ़ावा दे रही है। पहले की सरकारों ने नौकरियों को कुछ जिलों में सीमित कर दिया था। अब उत्तर प्रदेश के नौजवानों के साथ भेदभाव नहीं होगा। प्रदेश में माटी कला उद्योग का गठन किया गया है। स्थानीय स्तर पर जो उद्यमी अपनी मेहनत से अपनी परम्परागत कारीगारी से जीवन निर्वाह कर रहे हैं ऐसे लोगों को सरकार अच्छी सुविधा देगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper