जिग्नेश मेवाणी को एन्काउंटर की आशंका, गृह मंत्री से करेंगे शिकायत

अहमदाबाद: बनासकांठा के वडगाम से निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने अपने एन्काउन्टर की आशंका जताई है| पुलिस एन्ड मीडिया नामक व्हॉट्सएप ग्रुप पर चेट वाइरल होने पर जिग्नेश मेवाणी ने अपनी सुरक्षा को लेकर सवाल उठाए हैं| इस ग्रुप में मीडिया के कुछ सदस्य और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हैं| दरअसल शुक्रवार को गुजरात के कुछ पुलिस अधिकारियों के बीच हुई बातचीत वायरल हुई थी| जिसमें दो वीडियो भी शामिल हैं|

एक वीडियो में पुलिसकर्मी नेता जैसे दिखते व्यक्ति को पीटते दिखाई दे रहे हैं और दूसरे वीडियो में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बदमाशों के एन्काउन्टर से जुड़े सवालों का जवाब दे रहे हैं| व्हॉटसएप में शुक्रवार को इन वीडियो के अपलोड होने के बाद अहमदाबाद रूरल के डिप्टी एसपी ने एक टेक्स्ट मैसेज किया था| जिसमें उन्होंने लिखा कि जो लोग पुलिस का बाप बनने या पुलिस को लखोटा कहते हैं और पुलिस का वीडियो बनाते हैं, उन्हें याद रखना चाहिए कि पुलिस ऐसे लोगों के साथ ऐसा ही व्यवहार करेगी|

जिग्नेश मेवाणी ने इसे लेकर ट्वीटर पर आशंका जताई है कि यह एक गंभीर मसला है| जिग्नेश को दो वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने कहा कि उनका एन्काउन्टर हो सकता है| जिग्नेश ने कहा कि वे गृह मंत्री, डीजीपी और गृह सचिव से शिकायत करेंगे| गौरतलब है कि दलित कार्यकर्ता भानु वणकर की मौत के बाद अहमदाबाद बंद कराने जा रहे जिग्नेश मेवाणी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था| उस वक्त पुलिस और जिग्नेश मेवाणी के बीच उग्र कहासुनी हुई थी| जिसमें जिग्नेश मेवाणी ने पुलिस से कहा था कि गुजरात तुम्हारे बाप की जागीर नहीं है| साथ ही पुलिस के लिए लखोटा शब्द का उपयोग किया था|

दूसरी ओर अहमदाबाद एसपी का कहना है कि उन्होंने केवल मैसेज फारवर्ड किया है और उनके मैसेज का गलत अर्थ निकाला जा रहा है| उन्होंने साफ किया कि यह न तो व्यक्तिगत मैसेज है और न ही किसी प्रकार की धमकी|

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper