जुगल किशोर ज्वेलर्स (राजन रस्तोगी) लॉन्च किया नया लोगो, दिखेगी नवीनता के साथ 165 वर्ष पुरानी आठ पीढ़ियों की परम्परा

लखनऊ: जुगल किशोर ज्वेलर्स (राजन रस्तोगी) ने अपना नया लोगो लॉन्च किया है। यह नया लोगो जुगल किशोर ज्वेलर्स की 165 वर्षों से चली आ रही आभूषणों की आठ पीढ़ियों की परम्परा के साथ आधुनिकता के समावेश का परिचायक है। हॉलमार्क गोल्ड ज्वैलरी, प्रमाणित डायमंड ज्वैलरी व सिल्वर ज्वैलरी का कारोबार करने वाले जुगल किशोर ज्वेलर्स (राजन रस्तोगी) समृद्ध परम्परा को आगे बढाने वाली 8वीं पीढ़ी हैं।

जुगल किशोर ज्वेलर्स (राजन रस्तोगी) के राजन रस्तोगी ने बताया, “बदलते जमाने के साथ नई पहचान दिलाने के लिए यह नया लोगो जारी किया गया है। इस मौके पर हम अपने ग्राहकों का आभार व्यक्त करते हैं। उनके सहयोग के चलते ही हम बीते 165 वर्षों से उनके विश्वास को बरकरार रख ज्वेलरी मार्केट में अपनी पहचान बनाने और कायम रखने में कामयाब रहे हैं। ग्राहक हमसे न केवल अच्छे आभूषण की अपेक्षा रखते हैं बल्कि उन्हें विश्वास है कि जुगल किशोर ज्वेलर्स (राजन रस्तोगी) क्वालिटी और आधुनिकता का दूसरा नाम है। हम ग्राहकों के इस विश्वास को आगे भी कायम रखते हुए उनके लिए नए उत्पादों और डिज़ाइन्स पेश करते रहेंगे।”

राजन रस्तोगी ने आगे बताया, “हम जल्दी ही इंदिरानगर स्टोर में एक हाई-एंड ज्वेलरी कलेक्शन का सेक्शन शुरू करने जा रहे हैं। यह खासतौर से उन ग्राहकों के लिए होगा, जो वैभवशाली पारम्परिक आभूषणों में आधुनिकता का समावेश पसंद करते हैं।” जुगल किशोर ज्वेलर्स (राजन रस्तोगी) के सीनियर पार्टनर राघव रस्तोगी ने लोगो के विषय में जानकारी देते हुए बताया, “लोगो में दिख रहा पेन्डेन्ट हमारी आठ पीढ़ियों से संजोई हुई धरोहर है। इसमें हमने समय के साथ हुए परिवर्तन को देखते हुए बदलाव किए हैं। यह आधुनिकता के साथ ग्राहकों के विश्वास व हमारी परंपरा का प्रतीक है। साथ ही हम इंदिरानगर स्टोर में हाई-एंड ज्वेलरी का एक डेडिकेटेड सेक्शन खोलने जा रहे हैं। यह हमारे भव्य और शानदार गहनों को एक नया आयाम देगा।“

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper