जेवर एयरपोर्ट का शिलान्यास कर बोले PM मोदी- पूर्व की सरकारों ने लोगों को अंधेरे में रखा

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी ने आज उत्तर प्रदेश को जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट की सौगात दी. उन्होंने जेवर एयरपोर्ट की आधारशीला रखी. इस दौरान पीएम मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि पहले की सरकारें केवल घोषणाएं करती थीं, मगर हम ऐसा नहीं करते. उन्होंने कहा कि पहले दिल्ली और लखनऊ में रस्साकशी चलती रहती थी. पीएम मोदी ने ये भी कहा कि पूर्व की सरकारों ने लोगों को अंधेरे में रखा.

पीएम मोदी ने कहा कि पूर्व की सरकारों के दौरान किसानों से भूमि तो ले ली गई, मगर उनमें या तो मुआवजे से जुड़ी समस्या रही, या फिर वर्षों तक जमीन बेकार पड़ी रही. हमने किसान हित में, देश के हित में इन बाधाओं को भी दूर किया. हमने सुनिश्चित किया कि प्रशासन किसानों से वक़्त पर जमीन खरीदे और तब जाकर 30 हजार करोड़ के इस प्रोजेक्ट का भूमि पूजन करने के लिए आगे बढ़े हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि क्वालिटी इन्फ्रास्ट्रक्चर की सुविधा सुनिश्चित की जा रही है. आज आम लोगों का हवाई सफर करने का सपना भी पूरा किया जा रहा है. मुझे खुशी है कि अकेले उत्तर प्रदेश में बीते वर्षों में 8 हवाई अड्डों से फ्लाइट शुरू हो चुकी है, कई पर अभी भी काम जारी है. हमारे देश में कुछ सियासी दलों ने हमेशा अपने स्वार्थ को सर्वोपरी रखा है. इन लोगों की सोच रही है अपना स्वार्थ, अपने परिवार को ही विकास मानते थे. जबकि हम राष्ट्रप्रथम के सिद्धांत पर चलते हैं. सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास, यही हमारा मंत्र है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper