जो देश अपना इतिहास भूलता है, वह भविष्य निर्माण नहीं कर सकता: राम नाईक

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने शनिवार को बेगम हजरत महल की पुण्य तिथि के अवसर पर बेगम हजरत महल पार्क जाकर 1857 के स्वतंत्रता समर की वीरांगना को श्रद्धांजलि अर्पित की। नाईक ने कहा कि 1857 में बेगम हजरत महल ने अंग्रेजों से देश को आजाद कराने के लिये युद्ध किया। बुजुर्गों को बेगम हजरत महल की कहानी मालूम है, पर युवाओं को भी उसकी जानकारी होनी चाहिये। कहा कि जो देश अपना इतिहास भूलता है, वह भविष्य निर्माण नहीं कर सकता।

राज्यपाल ने संस्था को बधाई देते हुए कहा कि अंग्रेजों ने 1857 के प्रथम स्वतंत्रता समर को बगावत बताया था। स्वतंत्र भारत का दायित्व है कि देश ऐसे इतिहास का दोबारा लेखन करें व स्वर्ण अक्षरों में लिखे। कहा कि देश का सही इतिहास आम लोगों तक पहुंचना चाहिये। बेगम हजरत महल में अभूतपूर्व संगठन शक्ति थी। 1857 में तात्या टोपे, नाना साहब, मंगल पाण्डे, झांसी की रानी लक्ष्मीबाई जैसे क्रांतिकारियों ने अंग्रेजों से युद्ध किया और बलिदान भी दिया। कहा कि देश के प्रति बलिदान करने वाली बहादुर महिलाओं का इतिहास सामने आना चाहिये।

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष गैरूल हसन रिजवी ने कहा कि बेगम हजरत महल का संबंध फैजाबाद से था। अंग्रेज लखनऊ पर कब्जा करना चाहते थे। बेगम हजरत महल ने हिन्दू व मुस्लिम सैनिकों को जोड़कर लड़ाई की। अंग्रेजों की साजिश ‘फूट डालो और राज करो’ को नाकाम कर दिया। कहा कि राष्ट्रीय एकता को मजबूत करते हुए सौहार्द और भाईचारे की भावना को बढ़ाने की आवश्यकता है।

आंबेडकर महासभा ट्रस्ट के अध्यक्ष लालजी प्रसाद निर्मल ने कहा कि प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में लखनऊ की दो महिलाओं, बेगम हजरत महल और ऊद्धा देवी का योगदान है। दोनों महिलाओं से जुड़े स्थलों को महत्व देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि राज्यपाल के बेगम हजरत महल पार्क आने से स्थान को नई पहचान मिली है। डाॅ. राम मनोहर लोहिया विधि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. संजय सिंह ने कहा कि बेगम हजरत महल पर शोध की जरूरत है। उत्तर प्रदेश के लोगों को प्रदेश की विरासत के बारे में बताया जाना चाहिए।

इस अवसर पर संस्था की ओर से राज्यपाल ने समाज में उत्कृष्ट कार्य करने हेतु मीर अब्दुल्ला जाफर, राना हसन सहित अन्य लोगों को अंग वस्त्र व पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper