ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे: सुप्रीम कोर्ट में आज नहीं होगी ज्ञानवापी मस्जिद की सर्वे रिपोर्ट

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद की सर्वे रिपोर्ट आज कोर्ट में पेश करना मुश्किल है. कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह ने कहा कि हमारी रिपोर्ट 50 फीसदी तक तैयार कर ली गई है. रिपोर्ट पूरी तरह से तैयार नहीं है, इसलिए इसे आज अदालत में पेश नहीं किया जा सकता है। हम कोर्ट में अर्जी देकर समय मांगेंगे। हम पूरी रिपोर्ट तैयार करने के लिए 2-3 दिन और मांगेंगे। ज्ञानवापी मस्जिद की लड़ाई अब देश के सबसे बड़े दरबार में पहुंच गई है. आज सुप्रीम कोर्ट मेंमुस्लिम पक्ष की याचिका पर होगी सुनवाई अंजुमन इंताजामिया मस्जिद कमेटी ने सर्वे के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी। इसने निचली अदालत की कार्यवाही पर रोक लगाने की मांग की है। इसमें कहा गया है कि सर्वेक्षण का आदेश पूजा स्थल अधिनियम, 1991 के विपरीत है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कोर्ट कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा के हवाले से रिपोर्ट आज जारी करने की कोशिश की जा रही है. “हम दोपहर 2 बजे तक तैयारी करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं, अब 50:50 मौका है,” उन्होंने कहा। असिस्टेंट कोर्ट कमिश्नर अजय प्रताप सिंह ने एएनआई न्यूज एजेंसी को बताया, “14-16 मई। सर्वे तीन दिन तक चला। 50 फीसदी ही रिपोर्ट तैयार इसलिए हम इसे आज सुप्रीम कोर्ट में पेश नहीं कर पाएंगे । हम कोर्ट से 3-4 दिन के लिए कहेंगे।

सर्वे के दौरान टीम ने वजुखाना के लिए बनाई गई कृत्रिम झील से पानी निकाला। हिंदू पक्ष का दावा है कि पानी उतरते ही उस स्थान पर शिवलिंग प्रकट हो गया। यह देख हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन सर्वेक्षण स्थल से निकलकर सीधे दीवानी न्यायाधीश (वरिष्ठ संभाग) के दरबार में गए। इसके बाद कोर्ट ने वजुखाना को सील करने का आदेश दिया। सीआरपीएफ को मौके पर तैनात कर दिया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper