ज्येष्ठ माह का पहला बड़ा मंगल आज, सर्वार्थ सिद्धियोग में करें बजरंगबली को प्रसन्न

नई दिल्ली: हिंदू धर्म में ज्येष्ठ माह का काफी धार्मिक महत्व है. ज्येष्ठ माह में पहला मंगलवार आज 21 मई को है. इस महीने की शुरुआत 19 मई से हो चुकी है और ये 17 जून तक रहेगा. इस महीने 4 बड़े मंगलवार मनाए जाएंगे. पहला बड़ा मंगलवार 21 मई को है. दूसरा बड़ा मंगल 28 को, तीसरा 4 जून को और चौथा 11 जून को पड़ेगा.

इस बार का बड़ा मंगलवार काफी शुभ फलदायक है. दरअसल, इस बार सर्वार्थ सिद्धियोग में मंगलवार पड़ रहा है. इस दिन बजरंगबली की पूजा करने का विशेष महत्व है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन पूरे विधि विधान के साथ हनुमान जी की पूजा करने और व्रत करने से घर में कभी धन की कमी नहीं होती है. आइए जानते हैं विस्तार से:

बजरंगबली को भगवान शिव का 11 वां अवतार माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि कलियुग में भी बजरंगबली एकमात्र ऐसे अवतार हैं जो धरती पर ज़िंदा हैं. मुश्किल वक्त में याद करने पर बजरंगबली अपने भक्तों की रक्षा और सहायता करते हैं. 21 मई यानी कि आज ज्येष्ठ माह के पहले बड़े मंगलवार के दिन चन्द्रमा धनु राशि में द्रष्टिगोचर होगा. इस समय सर्वत्र कल्याण का योग बन रहा है. इस योग में कोई भी शुभ काम की शुरुआत करने पर सफलता पक्की तौर पर मिलेगी. बड़ा मंगलवार काफी मंगलकारी माना जाता है.

दूसरा बड़ा मंगलवार 28 मई को पड़ रहा है. इस दिन पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र रहेगा. इसे बुढवा मंगलवार भी कहते हैं. बजरंगबली के भक्त इस दिन को काफी धूमधाम से मनाते हैं. इस दिन कई जगहों पर भंडारे और भजन कीर्तन आयोजित किए जाते हैं. तीसरा बड़ा मंगल 4 जून को पड़ रहा है. इस दिन शुक्ल पक्ष प्रतिपदा के साथ मृगशिरा नक्षत्र का योग बन रहा है. बता दें कि इस नक्षत्र का स्वामी मंगल है. ये सभी के लिए हितकारी है.चौथा बड़ा मंगल इस बार 11 जून को पड़ेगा. इस दिन उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र कर्क राशि में द्रष्टिगोचर होगा. साथ ही इस दिन सिद्ध योग भी बन रहा है जोकि बेहद शुभ फलदायक है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper