टावर ध्वस्त होने के बाद एमरोल्ड कोर्ट के 70 फीसदी लोग घर लौटे, सफाई जारी

नोएडा । ट्विन टावर गिराए जाने के बाद यहां के एमरोल्ड कोर्ट में रहने वाले लगभग 70 प्रतिशत लोग जो यहां से चले गए थे, अब अपने घर लौट आए हैं। अथॉरिटी के टैंकरों की मदद से सोसाइटी की सफाई की जा रही है। सोसाइटी से धूल-मिट्टी को पूरी तरह से हटाया जा रहा है। वहीं अगर बात करें सुपरटेक बिल्डिंग की तो उसमें एस्टर टू टावर में कई जगह दरारे दिखाई दे रही हैं और धूल मिट्टी का जमाव वहां पर दिखाई दे रहा है। बिल्डिंग गिरने के बाद कुछ मलबा एटीएस के कुछ फ्लैट्स में भी पहुंचा है। जो लोग अपने घर पहुंचे हैं, वे पहले यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि घर में कहीं तरह का कोई नुकसान तो नहीं हुआ है और उसके साथ साफ-सफाई भी शुरू हो गई है। अभी भी बहुत से ऐसे लोग हैं, जिन्हें एमरोल्ड कोर्ट में वापस आना बाकी है।

ट्विन टावर के मलबे को हटाने का काम 2 दिन बाद किया जाएगा, क्योंकि उसमें 10 ब्लैक बॉक्स लगाए गए थे, जो उसके अंदर की तस्वीरें उसके अंदर का वाइब्रेशन और सब कुछ नापने के लिए लगाए गए थे। उनको निकालने के बाद यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि कहीं कोई विस्फोटक अंदर तो नहीं रह गया है। इसके बाद जब एडिफिस और सीबीआरआई अपनी रिपोर्ट सौंप देगा, उसके बाद मलबे को हटाने का काम शुरू होगा। सड़क पर आए ट्विन टावर के मलबे को नोएडा अथॉरिटी ने शनिवार की शाम तक हटा दिया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper