टोल प्लाजा पर रखें इस बात का ध्यान, नहीं तो देनी होगी दोगुनी फीस

हाईवे पर गाड़ी चलाने वाले लोगों के लिए सरकार नया नियम लाने जा रही है। इस नए नियम के बाद आपको टोल प्लाजा पर डबल टोल देना पड़ेगा। आपको बता दें कि अक्सर नॉन फास्टटैग यूजर भी टोल प्लाजा पर लंबी-लंबी लाइन से बचने के लिए FasTag (फास्टैग) वाले बूथ पर चले जाते थे, लेकिन अब से अगर आपने ऐसा किया तो आप पर भारी जुर्माना लगाया जा सकता है। इसलिए अब हाइवे पर गाड़ी चलाने के दौरान आपको अपनी ही लेन में चलना होगा।

टोल प्लाजा पर वाहनों की आवाजाही को लेकर सरकार ने ये नया नियम बनाया है। अब से यदि कोई भी टोल प्लाजा पर FasTag (फास्टैग) लेन से अपनी गाड़ी निकालते हैं तो आपकी मुश्किलें बढ़ सकती है। इस लेन से अब केवल वही वाहन निकल सकेंगे जिन में फास्टैग (FasTag) डिवाइस लगी होगी। बिना फास्टैग डिवाइस वाली गाड़ियां यदि इस लेन में आती हैं तो उन्हें दोगुनी फीस देनी पड़ेगी।

सरकार के इस फैसले के बाद फास्टैग वाली गाड़ियों को काफी राहत मिलेगी। अब उन लोगों को लंबी-लंबी लाइन में खड़ा नहीं होना पड़ेगा। आपको बता दें कि केंद्र सरकार जल्द ही इसका सर्कुलर जारी कर सकती है। आपको बता दें कि कई बार लोग गलत लेन में प्रवेश कर जाते हैं जिससे विवाद और जाम की समस्या बढ़ जाती है।

इस जाम की समस्या को कम करने के लिए सरकार ने ये नया नियम बना रही है। हालांकि अभी इस नियम को लागू नहीं किया गया है, लेकिन केंद्र सरकार जल्द ही इसका सर्कुलर जारी कर सकती है। इस नए नियम के बारे में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) द्वारा जल्द ही घोषणा कर दी जाएगी।

आपको बता दें कि FASTag फास्टेग एक डिवाइस है जिसे गाड़ियों में लगाया जाता है। इसके लिए सभी टोल प्लाजा पर एक अलग लेन बनी हुई है। यह रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) तकनीक पर आधारित है। अगर आफकी गाड़ी में ये टेक्नोलॉजी लगी है तो टोल बूथ से गुजरने पर अपने आप ही रिकॉर्ड दर्ज हो जाएगा। टोल का किराया सीधे बैंक खाते से काट लिया जाता है जो कि FASTag से जुड़ा हुआ है। इसके चलते ड्राइवर को टोल प्लाजा पर रुकना नहीं पड़ता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper