ठेंगे पर कानून, 7 सांसदों और 199 विधायकों ने नहीं दिया पैन कार्ड का विवरण

दिल्ली ब्यूरो: देश के लिए कानून संसद बनाती है लेकिन सांसद उसी कानून को मानते नहीं। देश में सात मौजूदा सांसदों और 199 विधायकों ने अपने पैन कार्ड का विवरण घोषित नहीं किए हैं, जिनकी चुनाव में नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए आवश्यकता होती है। हाल ही में एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म एडीआर की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है। इस रिपोर्ट में 542 लोकसभा सांसदों और 4,086 विधायकों के स्थायी खाता संख्या के विवरण के विश्लेषण के बाद तैयार किया गया है।

एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक पैन कार्ड नहीं देने वाले विधायकों में सबसे ज्यादा 51 कांग्रेस के हैं। जबकि सांसदों की संख्या एक है। दूसरे नंबर पर बीजेपी है। भाजपा के 42 विधायक ऐसे हैं जिन्होंने पैन कार्ड का विवरण नहीं दिया है। वहीं सांसदों में सभी ने दे रखी है। तीसरे नंबर पर माकपा है जिसके 25, भाकपा के 7, बीजद के 6 एआईडीएमके के 5 विधायक और 2 सांसद हैं जिन्होंने पैन कार्ड की जानकारी अभी छुपा रखी है। तृणमूल कांग्रेस के 5, जदयू के 3 विधायक ऐसे हैं जिन्होंने अपना पैन कार्ड विवरण अभी तक नहीं दिया है। वहीं 85 विधायक और 2 सांसद स्थानीय पार्टियों के हैं जिन्होंने अपना पैन विवरण नहीं दिया है।

वहीं राज्यवार संख्या पर नजर डाले तो केरल के 33 विधायक हैं जिन्होंने अभी तक पैन कार्ड विवरण नहीं दिया है। मिजोरम में 28 और मध्य प्रदेश के 19 विधायकों ने अभी तक पैन कार्ड विवरण नहीं जमा किया है। वहीं 40 विधानसभा सीटों वाली मिजोरम के 28 विधायकों ने अभी तक अपने पैन कार्ड डिटेल उपलब्ध नहीं करवाएं हैं। वहीं सांसदों की बात करें तो ओडिशा से 2 (बीजेडी), तमिलनाडु से 2 (एआडीएमके) जबकि असम, मिजोरम और लक्षद्वीप से 1-1 सांसद हैं जिन्होंने पैन कार्ड विवरण नहीं दिया है।

एडीआर के रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि बीजेपी के 18 विधायक ऐसे हैं जो दोबारा चुनकर विधानसभ पहुंचे हैं, इनके पैन कार्ड विवरण में विसंगति मिली है। विसंगति के मामले में कांग्रेस के 9 जबकि जेडीयू के तीन विधायक हैं। जबकि बीजेडी के 4, बीजेपी और कांग्रेस के 2-2, एनसीपी और जेडीएस पार्टी के 1-1 सांसद ऐसे हैं जिनके पैन कार्ड में विसंगति पाई गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper