डॉ लोहिया के विचार समाज के लिए आज भी प्रासंगिक: रालोद

लखनऊ ब्यूरो। राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और समाजवादी आन्दोलन के अग्रदूत डॉ लोहिया के जन्मदिन के अवसर पर शुक्रवार को उनके विचार को आज भी प्रासंगिक बताया। इससे हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए।

राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय सचिव ओंकार सिंह ने कहा कि समाजवादी आन्दोलन के अग्रदूत डॉ लोहिया के विचार देश और समाज के लिए प्रासंगिक हैं। इसलिए हम सभी को उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए। उन्होंने क्रान्तिकारी भगत सिंह की शहादत को याद करते हुए कहा कि शहीद-ए-आजम शोषण विहीन, वर्ग विहीन तथा जाति विहीन समाज की स्थापना चाहते थे। इसलिए समाज को जोडऩे के लिए इन विचारों की देश को आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि डॉ लोहिया ने हमेशा जाति तोड़ों, पंगत जोड़ों की बात करते थे।

वह लोकतंत्र के सच्चे हिमायती थे और विपक्ष को विशेष पक्ष के रूप में देखते थे। वह हिंदी भाषा के हिमायती थे। उनका स्लोगन था प्रजातंत्र का अटल नियम है, पल्टो सदा हुकुमत को। उन्होंने कहा कि डॉ लोहिया ने समाज को एक नई दिशा दी। साथ ही देश में समाजवादी आंदोलन को नई धार दी थी, जिसके लिए समाज हमेशा उनका ऋणी रहेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper