तानों से परेशान महिला ने किया गर्भवती होने का झूठा नाटक, 6 महीने बाद फिर ऐसे खुली पोल

इटावा: यूपी के इटावा में एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है, जहां एक महिला ने रिश्तेदारों और परिवार के सदस्यों के ताने से तंग आकर गर्भवती होने का झूठा नाटक किया। महिला ‘गर्भावस्था’ के छठे महीने में ही पेट में दर्द की शिकायत के बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गई और दावा किया कि उसने समय से पहले बच्चे को जन्म दिया है, जो एक प्लास्टिक की गुड़िया के रूप में सामने आया।

मामला तब सामने आया जब सीएचसी के डॉक्टर ने कहा कि यह असली बच्ची नहीं बल्कि प्लास्टिक की गुड़िया है। डॉक्टर ने गर्भावस्था से संबंधित अन्य कागजात और एक्स-रे भी चेक किए जो नकली पाए गए। चिकित्सा अधीक्षक, डॉ. हर्षित के अनुसार, महिला नियमित रूप से पेट के संक्रमण के इलाज के लिए स्वास्थ्य केंद्र का दौरा करती थी, न कि गर्भावस्था से संबंधित जांच के लिए, जैसा कि उसने दावा किया।

डॉक्टर ने कहा, महिला की शादी को काफी समय हो गया था और वह गर्भवती नहीं हो पा रही थी। इसलिए बांझपन के ताने से छुटकारा पाने के लिए उसने यह कहानी गढ़ी। महिला की शादी को 18 साल से ज्यादा हो चुके हैं लेकिन वह गर्भधारण नहीं कर पा रही है और इस बात को लेकर उसके परिवार वालों ने उस पर ताना मारा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper