तीन कप कॉफी पीजिए रोजाना, तंदुरुस्त रहेगा दिल

साओ पाओलो: हम सब थकान मिटाने और खुद को तरोताजा रखने के लिए कॉफी पीते हैं। विशेषज्ञों का दावा है कि काफी का नियमित इस्तेमाल दिल को भी दुरुस्त रखता है। यूनिवर्सिटी ऑफ साओ पाओलो में हुए एक अध्ययन में सामने आया है कि रोजाना तीन कप कॉफी पीने से हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा घट जाता है और धमनियां भी सुरक्षित रहती हैं। अध्ययन के दौरान विशेषज्ञों ने पाया कि अधिक कॉफी का इस्तमाल करने वाले लोगों की धमनियां सख्त नहीं हुई थीं।

यह अध्ययन जर्नल ऑफ द अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन में प्रकाशित हुआ है। विशेषज्ञों ने इसके लिए 4400 लोगों के खानपान व कोरोनरी आर्टरी कैल्शियम (सीएसी) के आंकड़े भी जुटाए। प्रमुख शोधकर्ता एंड्रिया मिरांडा ने अपने शोध में पाया कि आदतन तीन कप कॉफी पीने वालों की धमनियों में कैल्शियम जमने से सख्त होने का खतरा कम पाया गया। हालांकि ज्यादा कॉफी पीने के प्रति चेतावनी भी दी है।

यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबरा के वैज्ञानिकों का कहना है कि कॉफी में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट तत्व सेहत के लिए लाभकारी होते हैं। रोस्टेड कॉफी में एक हजार बायोएक्टिव कम्पाउंड होते हैं, इसमें कुछ लाभ पहुंचाने वाले एंटीऑक्सिडेंट हैं, जिसके सूजनरोधी, रेशारोधी और कैंसररोधी प्रभाव होते हैं। उन्होंने देखा कि इससे हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा 15 फीसदी तक कम हो जाता है। साथ ही हृदय संबंधी बीमारियों के कारण होने वाली मौतों की आशंका 19 फीसदी तक कम हो जाती है। इसके अलावा कॉफी पीने वालों में लिवर कैंसर का खतरा 34 फीसदी, आंतों के कैंसर का खतरा 17 फीसदी तक घट जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper