तेजप्रताप यादव का हो रहा राजनीति से मोह भंग!

दिल्ली ब्यूरो: इंसान का मिजाज कब बदले भला इंसान क्या जाने। कब संन्यास धारण कर ले और कब कोई सन्यास गृहस्थ आश्रम धारण कर ले किसे पता। और राजनीति के बारे में भला कहना कि क्या? इधर लालू पुत्र तेजप्रताप यादव में एक ट्वीट करके बिहार की राजनीति को गरमा दिया है। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव ने राजनीति से मोह भंग होने के संकेत दे दिये हैं। पिछले दिनों उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि मेरा सोंचना है कि मैं अर्जुन को हस्तिनापुर की गद्दी पर बैठाऊं और खुद द्वारका चला जाऊं।

इस ट्वीट के बाद ऐसा माना जा रहा है कि वो राजनीति में अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव को ही आगे करना चाहते हैं। हालांकि इस मामले में उनके या उनके परिवार के किसी सदस्य की तरफ से प्रतिक्रिया नहीं मिली है। तेजप्रताप ने अपने ट्वीट में तेजस्वी को मगध की बजाया हस्तिनापुर की गद्दी दिलवाने की बात कही है ऐसे में उनका इशारा 2019 में होने वाले आम चुनाव और दिल्ली की गद्दी की तरफ है। बता दें कि 2019 में आम चुनाव है और विपक्षी एकता के तहत मोदी सरकार घेरने की कवायद चल रही है।

बता दें कि लालू के बड़े बेटे राधा-कृष्ण के बड़े भक्त हैं और अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव की तरह राजनीति में ज्यादा एक्टिव नहीं रहते। हालांकि सार्वजनिक जीवन में वो काफी मिलनसार हैं और हमेशा अलग-अलग रूपों में दिखते हैं। वो सार्वजनिक मंच पर भी खुद को कृष्ण के रूप में पेश कर चुके हैं। लालू के दोनों बेटों में तेजस्वी प्रसाद यादव राजनीति में ज्यादा सक्रिय रहते हैं। इसके उलट तेजप्रताप यादव कभी अपने विवादित बयानो तो कभी अपने पिता के अंदाज में ही लोगों को गुदगुदाने और हंसाने के लिये भी चर्चा में रहते हैं।

हाल ही में शादी के बंधन में बंधे तेजप्रताप ने ट्वीट के माध्यम से खुद को भगवान कृष्ण बताना चाहा है जबकि उन्होने अपने छोटे भाई तेजस्वी को अर्जुन बताया है। उनके इस ट्टवीट के बाद बिहार की राजनीति में कयास लगाने का नया दौर शुरू हो चुका है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper