तोड़ा 111 दिन का रिकॉर्ड, कोरोना के मामलों में सितंबर के बाद सबसे ज्यादा ऐक्टिव केस

नई दिल्ली: भारत में रोजाना आने वाले कोरोना वायरस के नए मामलों ने 111 दिनों का रिकॉर्ड तोड़ दिया। शुक्रवार को देशभर में कोरोना वायरस के करीब 40 हजार मामले रिपोर्ट हुए। वहीं, देशभर में ऐक्टिव केसों की संख्या बीते साल सितंबर के बाद सबसे ज्यादा है। देश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या भी बढ़कर 2.9 लाख हो गई है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, बीते तीन दिनों के अंदर ही ऐक्टिव केसों में 54 हजार का इजाफा हुआ है। वहीं, गुरुवार को देशभर में 19 हजार ऐक्टिव केस बढ़े जो कि 10 सितंबर के बाद एक दिन में सबसे ज्यादा है। बीते साल सितंबर में महामारी अपने चरम पर थी और देशभर में हर दिन 90 हजार मामले आ रहे थे।

देश के 36 राज्य/केंद्रीय शासित प्रदेशों में भी ऐक्टिव केस बढ़ रहे हैं। ऐक्टिव केसों का बढ़ना न सिर्फ संक्रमण के फैलने का संकेत है बल्कि यह आने वाले दिनों में ज्यादा से ज्यादा मौतों की भी वजह बन सकता है। एक दिन में देश के अंदर कोरोना वायरस के 188 मौतें दर्ज की गईं जो कि 14 जनवरी के बाद सबसे ज्यादा है। भारत में शुक्रवार को कोरोना वायरस के 40 हजार 944 केस दर्ज किए गए जो कि गुरुवार से ज्यादा थे। सात दिन का औसत मामलों में भी 5 प्रतिशत से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है जो कि महामारी की शुरुआत के बाद से सबसे ज्यादा है।

शुक्रवार को महाराष्ट्र में कोरोना के 25 हजार 681 केस दर्ज किए गए जो कि गुरुवार की तुलना में थोड़ा कम था। सिर्फ मुंबई में ही शुक्रवार को 3 हजार से ज्यादा केस दर्ज हुई जो कि एक दिन के अंदर सबसे ज्यादा मामले हैं। इसके अलावा पंजाब और चंडीगढ़ में बीते साल सितंबर की तुलना में अब तक के सबसे ज्यादा केस दर्ज किए गए हैं। वहीं, कर्नाटक में नवंबर के बाद सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। मध्य प्रदेश में भी दिसंबर के बाद पहली बार एक हजार से ज्यादा केस सामने आए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper