त्याग का फल

दिन भर सोशल मीडिया पर वक्त गुजारने वाले बच्चों के लिए काशी की रहने वाली डॉ. अर्तिका शुक्ला एक मिसाल हैं। डॉ. अर्तिका हमेशा फेसबुक चलाती रहती थीं। इस पर जब उन्हें मां ने डांटा, तो उन्होंने सोशल मीडिया छोडऩे के साथ ही अफसर बनने की ठान ली और पहले ही प्रयास में आईएएस बन गईं।

अर्तिका एमबीबीएस करने के बाद एमडी की पढ़ाई कर रही थीं, जब उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा दी। आईएएस बनने के अपने सपने को पूरा करने के लिए अर्तिका ने सबसे पहले सोशल मीडिया से दूरी बनाई। उन्होंने वर्ष 2014 में सिविल सर्विस की तैयारी शुरू की और महज एक साल में उन्होंने बिना कोचिंग के आईएएस की परीक्षा पास कर ली। अर्तिका मानती हैं कि अगर लक्ष्य आईएएस है, तो 10वीं से ही गंभीर होकर पढ़ाई शुरू कर देनी चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper