त्रिपुराः कांग्रेस ने अपने नेताओं की सुरक्षा की मांग की

अगरतला: कांग्रेस ने अपने नेता सुदीप रॉय बर्मन की हत्या की साजिश का आरोप लगाते हुए गुरुवार को कहा कि अगर त्रिपुरा सरकार तत्काल पर्याप्त सुरक्षा प्रदान नहीं करती तो वह अपने नेताओं की सुरक्षा के लिए त्रिपुरा उच्च न्यायालय का रुख करने पर विचार कर रही है।

त्रिपुरा के एक वरिष्ठ मंत्री ने हालांकि इन सभी आरोपों को खारिज कर दिया। रॉय बर्मन एक अन्य भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक के साथ हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए हैं। त्रिपुरा के अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रभारी डॉ. अजय कुमार ने आरोप लगाया है कि त्रिपुरा प्रदेश कांग्रेस के नेताओं को धमकी मिल रही है और भाजपा के दो विधायकों बर्मन और साहा कांग्रेस में शामिल होने के बाद से हमलों का शिकार हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि रॉय बर्मन को डर है कि उन्हें कभी भी मारा जा सकता है तथा किसी गंभीर आऱोपों में लंबे समय तक जेल में रख सकता है। उन्होंने कहा, ”सुदीप को पता चला है कि शीर्ष स्तर पर एक साजिश रची गई है और पेशेवर हत्यारों का एक समूह राज्य के बाहर से लाया गया है। राज्य सरकार ने उन पर गंभीर आरोप लगाने की योजना बनाई है।”

डॉ. कुमार ने कहा, ”हम पहले ही कांग्रेस के सभी शीर्ष नेताओं के परिवारों की सुरक्षा बढ़ाने सहित पर्याप्त सुरक्षा की मांग कर चुके हैं।” उन्होंने त्रिपुरा की कानून व्यवस्था की स्थिति पर गंभीर चिंता व्यक्त की और कहा कि अगर जरूरत पड़ी, तो पार्टी अपने नेताओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाएगी।

कुमार ने कहा,”हमने मुख्यमंत्री (विप्लब कुमार देव) और पुलिस महानिदेशक (वीएस यादव) को पत्र लिखकर सुदीप रॉय बर्मन और आशीष कुमार साहा के पिछले महीने कांग्रेस में शामिल होने के तुरंत बाद सुरक्षा की मांग की थी। हमने 18 फरवरी को पत्र भेजे थे लेकिन हमें कोई जवाब नहीं मिला, इसलिए हम उच्च न्यायपालिका का रूख करने पर विचार कर रहे हैं।”

कांग्रेस नेता ने कहा कि अगरतला सहित विभिन्न स्थानों पर दोनों नेताओं पर हुई हिंसा और हमलों की हालिया घटनाएं उनके जीवन के लिए खतरे की आशंका को सही ठहराती हैं।

इस बीच, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बिरजीत सिन्हा ने दावा किया है कि उसके स्थानीय नेताओं की एक बड़ी संख्या सहित 5,000 से अधिक भाजपा समर्थक हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए हैं तथा अभी और भाजपा नेता कांग्रेस में शामिल होंगे।

राज्य के सूचना मंत्री और भाजपा नेता सुशांत चौधरी ने यूनीवार्ता को बताया कि कांग्रेस नेता ऐसा सिर्फ “राजनीतिक लाभ” प्राप्त करने के लिए कर रहे हैं। चौधरी ने कहा, ”ये आरोप बेबुनियाद है। कोई आधार नहीं होने के बावजूद कांग्रेस राजनीतिक लाभ लेने के लिए अनावश्यक रूप से जनता की सहानुभूति प्राप्त करने की कोशिश कर रही है।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper